रूस में निष्पक्ष चुनाव को लेकर फिर प्रदर्शन करेगा विपक्ष:1400 लोग हुए थे गिरफ्तार

0
2038
page3news-Russian opposition
page3news-Russian opposition

मॉस्को: रूस में बढ़ते दबाव के बावजूद निष्पक्ष चुनाव को लेकर शनिवार को विपक्ष एक और सामूहिक रैली निकालने की योजना बना रहा है। गौरतलब है कि पिछले हफ्ते विरोध प्रदर्शन में लगभग 1,400 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। यह हाल के वर्षों में देश में किसी रैली के खिलाफ की गई सबसे बड़ी कार्रवाई थी। इसके बाद अधिकारियों ने शहर के चुनावों में हिस्सा लेने से प्रमुख विपक्षी उम्मीदवारों को रोक दिया है। इस दौरान रैली में लगभग 22,000 लोग शामिल हुए। फेसबुक पर 6,000 से ज्यादा लोगों ने कहा कि वे शनिवार को चुनावों के अधिकार को वापस लाने के खिलाफ मार्च में शामिल होंगे।

विपक्षी उम्मीदवार अयोग्य घोषित

45 सीटों वाले शहरी निकाय पर फिलहाल क्रेमलिन यूनाईटेड रशिया पार्टी का कब्जा है। चुनाव आयोग ने जाली हस्ताक्षर के कारण मुख्य विपक्षी उम्मीदवारों को अयोग्य घोषित कर दिया था। हालांकि, ये उम्मीदवार इसे गलत बता रहे हैं। उनका कहना है कि ये उनके खिलाफ साजिश है और बगैर किसी कारण के उन्हें अयोग्य ठहराया गया है।

पुतिन ने नहीं की कोई टिप्पणी

पिछली बार प्रदर्शनकारियों ने ‘मेरे पास चुनने का अधिकार है’ के बैनर के साथ प्रदर्शन किया था। चुनावों में विपक्ष को मॉस्को की संसद में क्रेमलिन लॉयलिस्ट के एकाधिकार समाप्त होने की उम्मीद है। पुतिन ने मॉस्को के इस राजनीतिक संकट पर कोई टिप्पणी नहीं की है। एलेक्सी नेवेलनी समेत अन्य विपक्षी नेताओं का आरोप है कि राजधानी में भ्रष्टाचार व्याप्त है।

कौड़ियों के भाव में संपत्ति बेचने का आरोप

नेवेलनी इस वक्त जेल में हैं, लेकिन उनकी टीम ने गुरुवार को एक रिपोर्ट जारी कर सोबयानिन के उप-प्रमुख पर अपने परिवार के सदस्यों को कौड़ियों के भाव में संपत्ति बेचने का आरोप लगाया। अधिकारियों ने पिछले हफ्ते हुए प्रदर्शन के खिलाफ जांच शुरू कर दिया है।

चार साल में यह दूसरा मौका

बता दें कि चार साल में यह दूसरा मौका है जब सरकार विरोधी प्रदर्शन में इतनी बड़ी संख्या में पुलिस ने लोगों पर कार्रवाई की है। साल 2012 में ब्लादिमीर पुतिन प्रधानमंत्री बने थे। इसके बाद उनका 2015 में जमकर विरोध हुआ था।

LEAVE A REPLY