Hemkund Sahib Dham 2023 : हेमकुंड साहिब धाम की यात्रा 20 मई से होगी शुरू

993

ऋषिकेश: Hemkund Sahib Dham 2023  श्री हेमकुंड साहिब धाम की यात्रा 20 मई से शुरू हो रही है। गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib Dham 2023) मैनेजमेंट ट्रस्ट की ओर से ऋषिकेश में प्रथम जत्थे की रवानगी का कार्यक्रम आयोजित किया गया है।

संबंधित समाचार पेज थ्री न्यूज़ पेपर के डिजिटल संस्करण पर

https://page3news.in/epaper/dehradun/18_may/18_may_2023.html

Weather Update : अगले सात दिनों तक नहीं चलेगी लू : IMD

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि.) एवं मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा परिसर ऋषिकेश से श्री हेमकुंड साहिब यात्रा के प्रथम जत्थे को रवाना किया। राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने गुरुद्वारा में मत्था टेका एवं प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की। उन्होंने हेमकुंड यात्रा पर जाने वाले सभी श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं दी।

राज्यपाल ने कहा कि आज श्री हेमकुंड साहिब जी की यात्रा के शुभारंभ का यह बहुत ही शुभ दिन है, पंज प्यारों के नेतृत्व में पहला जत्था श्री हेमकुंड साहिब की यात्रा के लिए रवाना हो रहा है और मैं इस पवित्र अवसर पर सभी श्रद्धालुओं को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देता हूँ। उन्होंने कहा कि यह यात्रा हम सबके लिए श्रद्धा, भक्ति और विश्वास की यात्रा है, जीवन को धन्य बनाने की यात्रा है।

राज्यपाल ने कहा कि आप सभी श्रद्धालुओं को भी हिमालय की सात चोटियों के बीच, अमृत सरोवर की लहरों के बीच, पवित्र श्री निशान साहिब की लहराती दिव्य ध्वजा के साथ श्री हेमकुंड साहिब जी के पवित्र दर्शन प्राप्त कर जीवन को धन्य बनाने का यह अवसर प्राप्त हुआ है। राज्यपाल ने सिख गुरुओं को याद करते हुए कहा कि युद्ध कला, युद्ध रणनीति, ‘निश्चय कर अपनी जीत करौ’ विजय हासिल करने की शिक्षा, निंदा, चुगली से दूर रहने की शिक्षा, जरूरतमंद की सेवा करने की शिक्षा, बचत करने की शिक्षा, शस्त्र विद्या, घुड़सवारी करने की शिक्षा, नशे से दूर रहने की शिक्षा हमें गुरूओं ने दी है। उन्होंने कहा कि स्वाभिमान, साहस, बलिदान, परिश्रम और सेवा के मार्ग पर चलकर ‘सवा लाख ते एक लड़ावां’ का संदेश अदम्य साहस की शिक्षाओं का सार है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा हेमकुंड साहिब की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की गई हैं। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से अपील की है कि यात्रा पर जाने से पहले अपने स्वास्थ्य परीक्षण जरूर करवाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड की चारधाम यात्रा भी चरम पर है। पिछले साल 50 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने चारधाम यात्रा के दर्शन किए। इस वर्ष चारधाम यात्रा के लिए इससे भी अधिक श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि देवभूमि उत्तराखण्ड आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार से परेशानी न हो, इसके लिए हर संभव व्यवस्थाएं की गई हैं।

कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे राज्यपाल लेफ्टिनेंट कर्नल गुरमीत सिंह, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोकसभा सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, प्रेमचंद अग्रवाल, ऋषिकेश की महापौर अनीता ममगाईं, महिला आयोग के अध्यक्ष कुसुम कंडवाल, परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती ने गुरुद्वारा में माथा टेका। गुरुद्वारा मैनेजमेंट ट्रस्ट के अध्यक्ष सरदार नरेंद्र अजीत सिंह बिंद्रा ने यहां आगमन पर सभी का स्वागत किया।

Employment Fair : PM ने बताया, रोजगार क्षेत्र में 2014 के बाद क्या हुआ

Leave a Reply