उत्तराखण्ड में इस प्रकार की घटना पूरे प्रदेश के लिए अत्यंत चिन्ता का विषय

0
2167
देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांगे्रस नेताओं के एक प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मुलाकात कर राज्य में घटित घटनाओं एवं जनसमस्याओं से सम्बन्धित पत्र सौंपते हुए उचित कार्रवाई की मांग की।

कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल सीएम से मिला

मुख्यमंत्री को सौंपे पत्र में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने 26 अपै्रल को जनपद टिहरी गढ़वाल के नैनबाग तहसील के ग्राम श्रीकोट में घटित घटना की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि श्रीकोट में 27 साल के दलित युवक जितेन्द्र दास की कुछ लोगों द्वारा की गई निर्मम पिटाई के उपरान्त मौत हो गई थी। इस घटना ने पूरे समाज को झकझोर कर रख दिया है। उन्होंने कहा कि स्व0 जितेन्द्र दास के परिवार में उनकी विधवा मां, अविवाहित बहन तथा एक छोटा भाई है।

जनसमस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा

परिवार में स्व0 जितेन्द्र दास ही एकमात्र कमाने वाले थे जिससे पूरे परिवार का भरण-पोषण होता था। परिवार के कमाऊ मुखिया की मौत के उपरान्त उनके परिवार की स्थिति अत्यंत दयनीय हो चुकी है। पीड़ित परिवार से मुलाकात के दौरान वहां पर स्थानीय निवासियों से भी मेरी बातचीत हुई और सबका मानना है कि उत्तराखण्ड जैसे राज्य में इस प्रकार की घटना पूरे प्रदेश के लिए अत्यंत चिन्ता का विषय है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की कि स्व0 जितेन्द्र दास के परिवार की दयनीय स्थिति को मद्देनजर रखते हुए उनकी अविवाहित छोटी बहिन को सरकारी नौकरी देने के साथ ही परिवार के भरण-पोषण हेतु 15 लाख रूपये का मुआवजा तत्काल दिया जाय।
एक अन्य मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह ने उत्तराखण्ड राज्य में संचालित 108 आपातकालीन सेवा एवं खुशियों की सवारी में कार्यरत कर्मचारियों की के मामले को मुख्यमंत्री के समक्ष रखते हुए कहा कि पूर्व में राज्य में 108 सेवा का संचालन जी.वी.के. कम्पनी द्वारा किया जा रहा था, परन्तु विगत 30 अपै्रल, 2019 को कम्पनी की निविदा अवधि पूर्ण होने के उपरान्त अब 108 सेवा के संचालन का ठेका मध्य प्रदेश की कैम्प नामक संस्था को दिया गया है।

कई कर्मचारियों की सेवायें समाप्त कर दी गई

उन्होंने कहा कि 108 को संचालित करने वाली कैम्प नामक संस्था द्वारा रिटेण्डरिंग के उपरान्त पूर्व से कार्यरत कुछ कर्मचारियों को पुनः सेवा में रख दिया गया है परन्तु कई कर्मचारियों की सेवायें समाप्त कर दी गई हैं तथा अन्य को आधे मानदेय रू0 9000 प्रतिमाह मात्र पर कार्य करने को मजबूर किया जा रहा है जिससे कर्मचारियों में रोष व्याप्त है तथा वे लगभग दो सप्ताह से देहरादून के परेड ग्राउण्ड में धरना-प्रदर्शन के माध्यम से आन्दोलनरत हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं का एकमात्र साधन है 108

प्रीतम सिंह ने कहा कि 108 जैसी जीवनदायिनी आपातकालीन सेवा एवं खुशियों की सवारी उत्तराखण्ड जैसे पर्वतीय राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं का एकमात्र साधन है जो रिटेण्डरिंग के उपरान्त सेवा का संचालन करने वाली संस्था कैम्प प्रबन्धन के अडियल रवैये के कारण लगभग एक माह से ठप्प पड़ी हुई है।
उन्होंने मुख्यमंत्री से 108 आपातकालीन सेवा एवं खुशियों की सवारी में कार्यरत कर्मचारियों को पूर्व की भांति मानदेय दिये जाने एवं आपातकालीन सेवा को शीघ्र सुचारू रूप से संचालित किये जाने हेतु संचालन करने वाली संस्था को निर्देशित करने का आग्रह किया।  प्रीतम सिंह ने उत्तराखण्ड के गन्ना किसानों के बकाये भुगतान का प्रकरण मुख्यमंत्री के समक्ष रखते हुए कहा कि उत्तराखण्ड राज्य में जनपद हरिद्वार एवं जनपद उधमसिंहनगर प्रमुख रूप से गन्ने की खेती वाले क्षेत्र हैं।

वायदे पर अमल करने में विफल रही राज्य सरकार

भाजपा ने अपने दृष्टि पत्र में राज्य के गन्ना किसानों से वायदा किया था कि राज्य में भाजपा की सरकार बनने की दशा में गन्ना किसानों का बकाया भुगतान 15 दिन के अन्दर किया जायेगा। राज्य सरकार के कार्यकाल को दो वर्ष का समय व्यतीत होने के उपरान्त भी राज्य सरकार अपने इस वायदे पर अमल करने में विफल रही है। प्रदेश की चीनी मिलों द्वारा पिछली फसलों का अभी तक भुगतान नहीं किया गया है जिससे गन्ना किसान असमंजस की स्थिति में हैं तथा बकाया भुगतान न होने से किसानों में रोष व्याप्त है।

नुकसान का मुआवजा दिये जाने की मांग

उन्होंने गन्ना किसानों को उनके बकाये के शीघ्र भुगतान की व्यवस्था के साथ ही गन्ना किसानों के बिजली के ट्यूबवैलों पर अतिरिक्त सरचार्ज समाप्त किये जाने तथा जंगली जानवरों से फसलों को होने वाले नुकसान का मुआवजा दिये जाने की मांग की। एक अन्य मामले में प्रीतम ंिसह ने 14 मई को जनपद देहरादून के जमनीपुर वार्ड नं0 1, नया गांव में जसपाल सिंह पुत्र जसवन्त सिंह के व्यापारिक संस्थान श्री बाजी इण्टर प्राइजेज में हुए भीषण अग्निकाण्ड से मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए कहा कि उक्त अग्निकाण्ड में जसपाल सिंह के व्यापारिक संस्थान में रखा लगभग 50 लाख रूपये के सामान सहित आवासीय मकान भी पूर्ण रूप से जलकर नष्ट हो गया।
व्यापारिक संस्थान एवं आवासीय मकान में हुए अग्निकाण्ड में जसपाल सिंह बुरी तरह झुलस गये जिनका उपचार देहरादून के निजी चिकित्सालय में चल रहा है। प्रार्थी के परिवार के भरण-पोषण का एकमात्र साधन उनका व्यापारिक संस्थान अग्निकाण्ड में नष्ट होने के कारण उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि जसपाल सिंह को अग्निकाण्ड में हुए भारी नुकसान को दृष्टिगत रखते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष से उचित धनराशि स्वीकृत की जाय ताकि वे अपने क्षतिग्रस्त आवासीय मकान की मरम्मत करने के साथ ही पुनः अपना व्यवसाय शुरू कर सके।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह को आश्वासन दिया कि उनके द्वारा उठाये गये सभी मामलों में उचित कार्रवाई की जायेगी। प्रतिनिधिमण्डल में प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना, पूर्व विधायक राजकुमार, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, प्रदेश सचिव गिरीश पुनेड़ा एवं अनुजदत्त शर्मा शामिल थे।

LEAVE A REPLY