किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाना सुनिश्चित करेगी सरकार: पीएम मोदी

0
458

राज्यों के साथ मिलकर सरकार किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाना सुनिश्चित करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कृषि उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य के निर्धारण में कोई संदेह नहीं है। खेती की लागत के डेढ़ गुना के बराबर न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाएगा। प्रधानमंत्री ने स्पष्ट किया कि खेती की लागत में पूरा खर्च जोड़ा जाएगा, जिसमें किसान का अपना श्रम, पूंजी, पट्टे की जमीन का किराया, बीज, सिंचाई, खाद, ब्याज और अन्य सभी खर्च लागत का हिस्सा शामिल होंगे। प्रधानमंत्री ने एमएसपी को लेकर फैले भ्रम को दूर करने के लिए विस्तार से जिक्र किया।

प्रधानमंत्री शनिवार को यहां पूसा में आयोजित राष्ट्रीय कृषि उन्नति मेला में किसानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने एमएसपी को लेकर फैलाये जा रहे भ्रम को दूर करते हुए विस्तार से सरकार के निर्णय की जानकारी दी। खेती की लागत के मायने खेती पर होने वाले पूरे खर्च होंगे, जिसके डेढ़ गुना को एमएसपी माना जाएगा। मोदी की इस बात पर दूर-दूर से आये किसानों ने जमकर तालियां बजाकर अपनी खुशी का इजहार किया।

किसानों की आमदनी को बढ़ाने के उपायों का दिया ब्यौरा

किसानों की आमदनी को बढ़ाने के उपायों का ब्यौरा देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों से उसे अपनाने की हिदायत दी। स्वायल हेल्थ कार्ड के हिसाब से खेती करने की बात करते हुए मोदी ने कहा कि इससे जहां लागत घटेगी, वहीं पैदावार में बढ़ोतरी होगी। देश के 11 करोड़ किसानों को यह कार्ड दिया जा चुका है। इसी तरह खेती को जोखिम से बचाने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना काफी मुफीद साबित हो रही है। बहुत कम प्रीमियम पर अत्यधिक लाभ देने वाली बीमा योजना है।

प्रधानमंत्री कृषि संपदा योजना के तहत खेत से बाजार तक की श्रृंखला तैयार की जा रही है। सप्लाई चेन तैयार हो जाने से किसानों को उनकी उपज का ऊंचा मूल्य मिलेगा। ऑपरेशन ग्रीनश् के तहत आलू, टमाटर और प्याज जैसी जल्दी खराब होने वाली फसलों को समय पर प्रोसेस कर भंडारण करने की योजना तैयार की गई है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किसानों को उनकी जरूरत के मुताबिक आधुनिक बीज, खाद, दवा, सिंचाई के लिए पानी और बाजार मुहैया कराने की कोशिश में सरकार दिनरात लगी हुई है।

LEAVE A REPLY