Mahashivratri 2023 : हरिद्वार में कांवड़ियों की भारी भीड़, पुलिस ने तैयार किया सुरक्षा प्लान

187

देहरादून: Mahashivratri 2023  शनिवार को महादेव की उपासना व साधना का पर्व शिवरात्रि मनाया जाएगा। उत्‍तराखंड में मंदिरों को फूलों व रंग विरंगी लाइटों से सजाने को अंतिम रूप दिया जा रहा है। श्रद्धालु पूरा दिन जलाभिषेक करेंगे। जलाभिषेक व रुद्राभिषेक में श्रद्धालुओं की अधिक भीड़ की संभावना को देखते हुए सेवादार तैनात रहेंगे।

Turkey Earthquake : तुर्किये से सफल ऑपरेशन के बाद भारत लौटी NDRF की टीम

हरिद्वार के हरकी पैड़ी सहित अन्‍य गंगा घाटों पर जल भरने आए कांवड़ियों की शुक्रवार को भारी भीड़ पहुंची। हर-हर गंगे और जय भोले नाथ के जयकारों के साथ पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया। महाशिवरात्रि पर कांवड़ यात्रा की परंपरा अनुसार शारदीय कांवड़ में भी शिवभक्त कावड़ यात्री हरिद्वार हरकी पैड़ी से गंगाजल लेकर अपने अपने निर्दिष्ट गंतव्य स्थानों पर शिवालय में शिव जलाभिषेक को जाते हैं। पवन यात्री हरिद्वार से गंगाजल लेकर पैदल जाते हैं । इस दौरान खड़ी कांवड़ दौड़ती कांवड़ और दंडवत कांवड़ के रूप में वह गंगाजल हरिद्वार से लेकर जाते हैं।

मध्यरात्रि से भोलेनाथ के जयकारों से गूंजेंगे दून के शिवालय

देप्रथम पहर की पूजा का शुभ मुहूर्त शनिवार शाम 6: 41 से शुरू होगा। टपकेश्वर महादेव मंदिर गढ़ी कैंट, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर सहारनपुर चौक, जंगम शिवालय पलटन बाजार, कमलेश्वर महादेव मंदिर जीएमएस रोड, नर्वदेश्वर मंदिर डानलनवाला, प्राचीन शिव मंदिर धर्मपुर समेत शहर के विभिन्न मंदिरों में शिवरात्रि की तैयारी जोरों पर हैं।

इधर, ज्योतिषाचार्य डा सुशांत राज के मुताबिक कई श्रद्धालु 18 अथवा 19 के दिन शिवरात्रि मनाने को लेकर असमंजस में हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, महाशिवरात्रि का पर्व शनिवार रात आठ बजकर तीन मिनट से रविवार शाम चार बजकर 19 मिनट तक रहेगा। महाशिवरात्रि की पूजा निशिता काल में होगी है, ऐसे में शनिवार को मनाई जाएगी।

पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर (Mahashivratri 2023) में 2100 दीये के साथ रंगोली सहारनपुर चौक स्थित पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में आज 2100 दीयों की रंगोली में भोलेनाथ व शिवलिंग व प्रतिमा स्वरूप दर्शन होंगे। मंदिर के सेवादार संजय गर्ग ने बताया कि मध्य रात्रि से हरिद्वार से लाए गंगाजल व अन्य सामग्रियों से महादेव का सामूहिक रुद्राभिषेक होगा।

तोरण द्वार व रंग विरंगी लाइटों से सजाया गया टपकेश्वर गढ़ी कैंट स्थित पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में कल शिवरात्रि पर 11 हजार लीटर दूध, फल मिठाई का विशेष भोग लगाया जाएगा। मंदिर परिसर को तोरण द्वार व रंग विरंगी लाइटों से सजाया गया है।

पलटन बाजार स्थित जंगम शिवालय में श्री टपकेश्वर महादेव सेवा दल की बैठक मंदिर के महंत श्री 108 कृष्णागिरी महाराज व दिगंबर भरत गिरी के सानिध्य में बैठक हुई। जिसमें टपकेश्वर व जंगमेश्वर में शिवरात्रि पर चर्चा हुई। मंदिर के महंत श्री 108 कृष्णागिरी महाराज ने बताया कि मध्यरात्रि में टपकेश्वर महादेव का रुद्राभिषेक के बाद भोग लगेगा।

इसके बाद श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा। महिला व पुरुषों के लिए अलग अलग लाइन, दिव्यांग व बुजुर्ग लिफ्ट की व्यवस्था रहेगी। इस मौके पर सेवादल के अध्यक्ष गोपाल गुप्ता, महासचिव महेश खंडेलवाल, मीडिया प्रभारी विनय शर्मा आदि रहे।

नीलकंठ मेला क्षेत्र को तीन जोन और छह सेक्टर में बांटा

ऋषिकेश में स्थित पौराणिक नीलकंठ महादेव मंदिर में कांवड़ मेले को लेकर जनपद पौड़ी गढ़वाल क्षेत्र के तहत पुलिस प्रशासन ने अपने स्तर पर तैयारियां पूर्ण कर ली है। संपूर्ण मेला क्षेत्र को तीन जोन और छह सेक्टर में बांटा गया है। पूरे क्षेत्र में करीब 120 पुलिस अधिकारी और कर्मचारी सहित दो प्लाटून पीएसी की तैनाती की गई है।

आगामी शिवरात्रि मेले (Mahashivratri 2023) की सुरक्षा व्यवस्था एवं यातायात व्यवस्था के संबंध में थाना लक्ष्मण झूला पर समस्त फोर्स को ब्रीफिंग करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक पौड़ी शेखर सुयाल ने बताया कि शिवरात्रि कांवड़ मेला के संबंध में संपूर्ण क्षेत्र को तीन जोन तथा छह सेक्टर में बांटा गया है। प्रत्येक जोन में पुलिस उपाधीक्षक स्तर के अधिकारी तथा सेक्टर में निरीक्षक एवं थानाध्यक्ष स्तर के अधिकारियों को नियुक्त किया गया है।

मेले के लिए कुल पांच निरीक्षक, चार थानाध्यक्ष, 30 उपनिरीक्षक, अपर उपनिरीक्षक, 22 हेड कांस्टेबल, 60 कांस्टेबल, दो प्लाटून पीएसी, एसडीआरएफ यूनिट, जल पुलिस, फायर सर्विस को तैनात किया गया है।अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि संदिग्ध व्यक्तियों पर निगरानी रखने के लिए सादा वस्त्रों में भी पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं।

यातायात व्यवस्था के अंतर्गत नीलकंठ महादेव मंदिर जाने के लिए पशुलोक बैराज-गरुड़ चट्टी-नीलकंठ मंदिर मार्ग को निर्धारित किया गया है। मंदिर से वापसी में निकासी के लिए नीलकंठ-गरुड़ चट्टी-तपोवन मार्ग निश्चित किया गया। 17 से 19 फरवरी तक संपूर्ण क्षेत्र में भारी वाहनों के आवागमन पर रोक लगाई गई है। अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पैदल मार्ग पर रात्रि के समय यात्रियों के आवागमन पर पूर्ण रूप से रोक रहेगी।

वाहनों को अव्यवस्थित रूप से वाहन खड़े पाए जाने पर हटाने के लिए क्रेन की व्यवस्था की गई है। साथ ही नीलकंठ में पार्किंग फुल होने की दशा में वाहनों को पीपल कोटी दिउली मार्ग पर डायवर्ट कर पार्क कराया जाएगा। ब्रीफिंग के दौरान पुलिस उपाधीक्षक श्रीनगर श्याम दत्त नौटियाल, थाना प्रभारी निरीक्षक विनोद गुंसाई, ड्यूटी में नियुक्त समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

BJP On George : अमेरिकी अरबपति जॉर्ज सोरोस पर BJP का पलटवार

Leave a Reply