कांग्रेस ने पर्वतीय जिलों में खनन न खुलने पर जताया रोष

0
506

कांग्रेस ने केदार घाटी क्षेत्र में मंदाकिनी और काली गंगा पर क्षतिग्रस्त कई झूला पुलों का अभी तक निर्माण नहीं होने और पर्वतीय जिलों में खनन पट्टे नहीं खुलने पर रोष जताया है। पार्टी का आरोप है कि विभागीय लापरवाही के चलते पुलों का निर्माण नहीं हो पाया है। वहीं खनन नहीं खुलने से जिलों में सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्रों में निर्माण नहीं हो पा रहे हैं।

बुधवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह व केदारनाथ क्षेत्र के विधायक मनोज रावत ने राजीव भवन में पत्रकारों से बातचीत में राज्य सरकार पर हमला बोला। कहा कि मंदाकिनी नदी पर निर्माणाधीन विजयनगर का 108 मीटर लंबा झूला पुल, चंद्रापुरी में 80 मीटर लंबा झूला पुल, फाटा रेल गांव का 48 मीटर लंबा झूला पुल और स्यांसूगढ़ का 80 मीटर लंबा झूला पुल अभी तक नहीं बन पाया है।

इन पुलों के न होने से कई भीषण दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। पिछली कांग्रेस सरकार ने चंद्रापुरी व रेल गांव के पुलों के निमा्रण को धनराशि उपलब्ध कराई थी, लेकिन विभागीय लापरवाही से पुलों का निर्माण कार्य नहीं हो पाया।

राज्य की कानून व्यवस्था चरमराने का भी लगाया आरोप

कांग्रेस ने पर्वतीय जिलों रुद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, पिथौरागढ़ व बागेश्वर में खनन पट्टे नहीं खोलने के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया। कहा कि उक्त जिलों में छोटे-छोटे नाप खेतों में खेती सुधार को अल्पकालीन स्वीकृति नहीं मिल रही है। कांग्रेस नेताओं ने राज्य की कानून व्यवस्था चरमराने का आरोप भी लगाया।

LEAVE A REPLY