Nirbhaya case : फांसी पर चढऩे जा रहे निर्भया के गुनहगारों को गरुड़ पुराण सुनाने की तैयारी

0
364

उन्नाव। फांसी पर चढऩे जा रहे निर्भया के गुनहगारों को गरुड़ पुराण सुनाने की तैयारी है। मृत्यु के मानसिक भय से मुक्ति और आत्मा की सद्गति की आस्था का हवाला देकर जेल सुधारक प्रदीप रघुनंदन ने महानिदेशक तिहाड़ कारागार से इसकी अनुमति मांगी है। मौखिक आश्वासन तो मिल चुका है, लिखित आदेश आते ही वह तिहाड़ जेल पहुंचेंगे।

Ind vs Aus: विराट कोहली ने किया स्वीकार, नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने का फैसला गलत

प्रदीप रघुनंदन ने रखा प्रस्ताव

निर्भया के चारों गुनहगारों को 22 जनवरी को मृत्युदंड दिया जाना है। दोषियों की सजा टालने की कोशिशों के बीच फांसी की तैयारी में लगे तिहाड़ जेल प्रशासन से प्रदीप रघुनंदन ने गरुड़ पुराण सुनाने का प्रस्ताव रखा। बीते 14 साल से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कारागार में बंदियों को अपराध मुक्त करने के लिए प्रयासरत जेल सुधारक प्रदीप रघुनंदन बताते हैं कि फांसी की सजा पाए दोषियों को मानसिक भय से मुक्ति और भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के अनुसार मृत्युदंड को स्वीकार करने और उनकी आत्मा की सद्गति के लिए गरुड़ पुराण का पाठ सुनाना भारतीय धर्म एवं संस्कृति के अनुसार लाभकारी होगा। उन्होंने केंद्रीय कारागार के महानिदेशक संजीव गोयल से दोषियों को गरुड़ पुराण सुनाने की अनुमति मांगी है। उनका कहना है कि लिखित आदेश मिलते ही वह इसकी तैयारी में जुट जाएंगे।

दिसंबर वर्ष 2012 में घटना हुई थी

16 दिसंबर 2012 की रात में दिल्ली में चलती बस के अंदर एक पैरामेडिकल छात्र से सामूहिक दुष्कर्म हुआ था, जिसके बाद अस्पताल में उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया था। इस घटना से आहत देशभर के लोगों ने दुख जताया था और उसके साथ दरिंदगी करने वालों को सख्त सजा की मांग उठाई थी। निचली अदालत से सुनवाई के बाद और फिर सुप्रीम कोर्ट तक सुनवाई करते हुए मामले में चारों अभियुक्तों को फांसी की सजा सुनाई है। सुप्रीम कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका भी खारिज कर दी है। अब निर्भया कांड के चारों गुनाहगारों को फांसी देने के लिए 22 जनवरी की तारीख तय की गई है।

जेल सुधार के लिए किए कई प्रयास

प्रदीप ने उप्र और उत्तराखंड की ज्यादातर जेलों में रेडियो जॉकी, जेल स्टूडियो, बंदियों के मनोरंजन और स्वास्थ्य सुधार के लिए कैरम, चेस और आउटडोर में वालीबॉल व फुटबॉल की व्यवस्था करवाई है। वह तिहाड़ जेल अधिकारियों से भी जुड़े हैं। वहां भी जेल रेडियो की शुरुआत करने की तैयारी चल रही है।

प्रदीप को मिले राष्ट्रीय एवं प्रादेशिक पुरस्कार

आइएसओ अवार्ड-2008
स्कॉच अवार्ड-2016
युवा रतन पुरस्कार-2017
राष्ट्रीय जेल सेवा सम्मान-2018
राष्ट्रपति डाक्टर हामिद अंसारी द्वारा प्रशस्तिपत्र
नेशनल ऑइकान अवार्ड-2019
राष्ट्रीय युवा शिरोमणि पुरस्कार-2019
इंटरनेशनल एजूकेशन अवार्ड-2020
नागरिक सम्मान पद्मश्री के लिए चार बार नामित, 2020 में भी नामित हैं।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत नवी मुम्बई में उत्तराखण्ड भवन का करेंगे लोकार्पण

LEAVE A REPLY