Gyanvapi Survey : ज्ञानवापी के सर्वे पर हिंदू पक्ष का बड़ा खुलासा

6269

Gyanvapi Survey : भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने ज्ञानवापी के दूसरे दिन का सर्वे शुरू कर दिया है। टीम सुबह करीब आठ बजे ज्ञानवापी पहुंची। सर्वे को लेकर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है। पहले दिन के सर्वे में सात घंटे से ज्यादा समय तक परिसर की आकृति तैयार की है। माप-जोख भी की गई।

https://page3news.in/epaper/dehradun/6_aug/6_aug_2023.html

Delhi Shraddha Aftab Case : श्रद्धा हत्याकांड में साकेत कोर्ट में पेश किया गया फ्रिज

मुस्लिम पक्ष से इन लोगों को मौजूद रहने की इजाजत

वाराणसी में ज्ञानवापी सर्वे (Gyanvapi Survey) चल रहा है। सर्वे के दौरान हिंदू मुस्लिम पक्ष से आठ लोगों को मौजूद रहने की इजाजत दी गई है। इन सभी के पास जिलाधिकारी वाराणसी का पत्र पहुंचा था। बता दें कि पहले दिन के सर्वे में मुस्लिम पक्ष मौजूद नहीं था।

ज्ञानवापी के तहखाने से मूर्तियों के अवशेष मिलने का दावा

मां शृंगार गौरी मुकदमे की वादिनी चार महिलाओं के अधिवक्ता सुधीर त्रिपाठी ने बताया कि नंदी के सामने जो व्यास जी का तहखाना है, वहां से मूर्तियों के अवशेष मिले हैं। हिंदू पक्ष की पैरोकार सीता साहू ने कहा है कि ‘एक मूर्ति मिली है। माप लिया गया है। घास साफ करके मूर्ति निकाली गई है। एएसआई की टीम अपना काम कर रही है। अब दो बजे के बाद सर्वे होगा।’

एएसआई गहराई से अध्ययन करते हुए बारीकी से सर्वेक्षण कर रही है। मुस्लिम पक्ष पूरी तरह से सहयोग कर रहा है। पश्चिमी दीवार को देख और समझ कर सर्वे के किए एक्सपर्ट्स की टीम लगी हुई है। यह सर्वेक्षण अधिवक्ता आयुक्त की कमीशन की कार्रवाई से बहुत ही अलग है। इसका स्वरूप व्यापक है और यहां सब कुछ वैज्ञानिक पद्धति से हो रहा है।

फोर्स कर रही चक्रमण, कमांडो के हवाले गेट नंबर चार

ज्ञानवापी मसले को लेकर कमिश्नरेट (Gyanvapi Survey) के द्वारा खाशा सतर्कता बरती जा रही है। ज्ञानवापी, काशी विश्वनाथ, गोदौलिया चौराहा, बुलानाला, मैदागिन सहित शहर के संवेदनशील इलाकों में पुलिस, आरएएफ, पीएसी, एलआईयू समेत अन्य सुरक्षा ऐजेसिंया चौकन्नी थीं। इधर, ज्ञानवापी सर्वे के मूवमेंट पर खुद पुलिस आयुक्त मुथा अशोक जैन और डीएम एस. राजलिंगम नजर बनाए हुए हैं। इसके अलावा काशी विश्वनाथ धाम के गेट नंबर चार की सुरक्षा ट्रू पैरा कमांडो के हवाले की गई है। मंदिर परिसर के एक किलो मीटर के दायरे में भी कमांडो गश्त कर रहे हैं। शनिवार को भी ज्ञानवापी आने-जाने वाले मार्ग पर पुलिस बरकेडिंग कर तैनात थी। केवल पैदल यात्रीयों को मंदिर की ओर जाने दिया जा रहा था।

मुस्लिम पक्ष से ये हैं मौजूद

ज्ञानवापी के पुरातत्व सर्वेक्षण (Gyanvapi Survey) की कार्यवाही में आज मुस्लिम पक्ष के दो वकील समेत तीन पैरोकार सहयोग कर रहे हैं, जिसमें मुमताज़ अहमद, मोहम्मद एखलाक अहमद वकील हैं। मस्जिद के केयरटेकर एजाज अहमद ने आज मस्जिद ताला खोला, जिससे एसआई की टीम ने मस्जिद के अंदर प्रवेश किया। वजूखाने को छोड़कर आज मस्जिद के अंदर भी सर्वे होगा।

आजमगढ़ से सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ का बयान

आजमगढ़ से सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ भी शनिवार को वाराणसी पहुंचे। ज्ञानवापी पर सीएम योगी के बयान पर उनसे सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि अगर आरोप लगाया है तो सच की जांच होनी चाहिए। जो ढ़ाचा पहले था वो अब नहीं है। उसे किसी ने बलपूर्वक तोड़ दिया है। उसी की जांच सर्वे की टीम कर रही है। जांच से सच सामने आएगा, उससे किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

हिंदू पक्ष से सीता साहू पहुंची ज्ञानवापी

हिंदू पक्ष की पैरोकार सीता साहू भी सर्वे को लेकर ज्ञानवापी पहुंची हैं। इससे पहले उन्होंने दावा किया है कि औरंगजेब ने 1669 में मंदिर ध्वस्त कराया और उसके ढांचे को बदल दिया। तभी से हिंदू अपना अधिकार पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

गेट नंबर चार पर आरएएफ तैनात

सर्वे के दौरान प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। पूरा परिसर छावनी में तब्दील कर दिया गया है। ज्ञानवापी के गेट नंबर चार पर आरएएफ की टुकड़ी तैनात की गई है।

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का ट्वीट

ज्ञानवापी में सर्वे (Gyanvapi Survey) के दूसरे दिन सांसद और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- ‘एक बार जब ज्ञानवापी की एएसआई रिपोर्ट सार्वजनिक हो जाएगी, तो कौन जानता है कि चीजें कैसे आगे बढ़ेंगी। आशा है कि न तो 23 दिसंबर और न ही 6 दिसंबर की पुनरावृत्ति होगी। पूजा स्थल अधिनियम की पवित्रता के संबंध में अयोध्या फैसले में सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का अनादर नहीं किया जाना चाहिए। आशा यह है कि एक हजार बाबरियों के लिए द्वार नहीं खोले जाएंगे।’

सर्वे से पहले हिंदू पक्ष के वकील का बयान

ज्ञानवापी परिसर का वैज्ञानिक सर्वेक्षण शुरू होने से पहले हिंदू पक्ष के वकील सुधीर त्रिपाठी ने बयान दिया। उन्होंने कहा- यह सर्वे का दूसरा दिन है। हमें उम्मीद है कि लोग सर्वेक्षण में सहयोग करेंगे। हम चाहते हैं कि मामला सुलझ जाए। जल्द ही सर्वेक्षण से सबकुछ साफ हो जाएगा।

मुस्लिम पक्ष से वकील मुमताज अहमद पहुंचे

एएसआई सर्वे के दूसरे दिन मुस्लिम पक्ष से वकील मुमताज अहमद भी ज्ञानवापी पहुंच गए हैं। बता दें कि पहले दिन के सर्वे के दौरान एएसआई के साथ हिंदू पक्ष के वकील अंदर थे और मुस्लिम पक्ष मौजूद नहीं था।

सुरक्षा व्यवस्था व्यवस्था चाक चौबंद

ज्ञानवापी परिसर के एएसआई सर्वे का आज दूसरा दिन है। जिसके मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। वाराणसी की पुलिस फोर्स सुबह से ही ज्ञानवापी के आस-पास गश्त लगाती नजर आई।

Modi Surname : राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

Leave a Reply