Children’s Day 2023 : बाल दिवस Children’s Day कब और क्यों मनाया जाता है ?

131

14 नवंबर को पूरे भारत में बाल दिवस (Children’s Day 2023) मनाया जाता है, जो पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। पंडित जवाहरलाल नेहरू, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख नेता थे और पहले प्रधानमंत्री भी रहे थे। उनका जन्म 14 नवंबर 1889 को हुआ था।

पंडित नेहरू बच्चों के प्रति अपने प्रेम और समर्पण के लिए मशहूर थे, और उन्हें “चाचा नेहरू” के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने बच्चों के अधिकार और शिक्षा के महत्व को महसूस करते हुए बाल दिवस की स्थापना की थी, ताकि बच्चों को समर्थ और स्वतंत्र नागरिक बनाने के लिए समर्पित एक दिन हो।

इस दिन, स्कूलों और अन्य संगठनों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जो बच्चों के लिए शिक्षात्मक और मनोरंजनात्मक होते हैं। बच्चों को इस दिन खेलने, सीखने और मनोरंजन करने का मौका मिलता है, जिससे उनका विकास हो सकता है।

पंडित जवाहरलाल नेहरू कौन थे ?

पंडित जवाहरलाल नेहरू भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख नेता और भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। उनका जन्म 14 नवंबर 1889 को हुआ था और उनकी मृत्यु 27 मई 1964 को हुई थी।

नेहरू ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी भूमिका निभाई और उन्होंने महात्मा गांधी के साथ मिलकर भारत को 1947 में स्वतंत्रता दिलाई। उन्हें भारतीय जनता पार्टी के संस्थापकों में से एक माना जाता है और उन्होंने भारत को एक सशक्त और आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए अपना समर्थन दिया।

नेहरू ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य के रूप में भी कई बार कार्य किया और उनके प्रधानमंत्री पद कायम रहे थे जब वह अपने अंतिम समय की मौद्रिक विदाई ले रहे थे। उनका योगदान भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण है और वह एक सुप्रसिद्ध राजनेता, विचारक, और विश्वविद्यालय शिक्षक भी थे।

बाल दिवस Children’s Day 2023 का महत्व क्या है ?

बाल दिवस का महत्व बच्चों के अधिकारों, उनके विकास, और समर्पण को महत्वपूर्णता पूर्वक प्रमोट करने में है। यह दिन बच्चों को समर्थ, स्वतंत्र, और सामाजिक रूप से जिम्मेदार नागरिक बनाने का संकेत है। कुछ महत्वपूर्ण कारणों से बाल दिवस का महत्व है:

1. अधिकारों की सुरक्षा: बाल दिवस बच्चों को उनके अधिकारों की सुरक्षा के लिए एक मौका प्रदान करता है। इस दिन को मनाकर लोग बच्चों के अधिकारों के प्रति समर्थन जता सकते हैं और समाज में उनके सहारे का समर्थन कर सकते हैं।

2. शिक्षा का महत्व: बाल दिवस का उद्देश्य बच्चों को शिक्षा के महत्व के प्रति जागरूक करना है। इसके माध्यम से उन्हें शिक्षा में सही समर्थन और आवस्यक सुविधाएं मिलनी चाहिए।

3. बच्चों के विकास का समर्थन: बाल दिवस बच्चों के विभिन्न पहलुओं, जैसे कि शिक्षा, साहित्य, कला, खेल-कूद, और सामाजिक संबंधों में उनके पूर्ण विकास का समर्थन करता है।

4. बच्चों के सामाजिक सहभागिता का प्रोत्साहन: बाल दिवस से बच्चों को सामाजिक सहभागिता में बढ़चढ़कर अपनी आवश्यकताओं और सोच का साक्षर बनाने का मौका मिलता है।

5. बच्चों की प्रतिबद्धता: इस दिन बच्चों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति प्रतिबद्ध करने का भावनात्मक और सामाजिक समर्थन मिलता है।

सम्पूर्ण रूप से कहें तो, बाल दिवस बच्चों को समर्थ, सुरक्षित, और सुखी जीवन के लिए समर्थन प्रदान करने का मौका है और समाज को बच्चों के प्रति उनके उत्कृष्ट प्रकार से सहयोग करने का भावी दृष्टिकोण प्रदान करता है।

बाल दिवस Children’s Day 2023 के लिए सबसे अच्छा संदेश क्या है ?

बाल दिवस के अवसर पर बच्चों के साथ साझा किए जाने वाले संदेश में संजीवनी बूँदें होती हैं, जो उन्हें प्रेरित करने और समर्थित करने का उदाहरण प्रदान करती हैं। यहां कुछ संदेश हैं जो बाल दिवस के लिए सबसे अच्छे हो सकते हैं:

1. बच्चों का अधिकार है सपने देखना:

“बच्चों के हक में समर्पित रहें, उन्हें सपने देखने का अधिकार है। उन्हें समर्थ, स्वतंत्र, और सुरक्षित रूप से बड़ा होने का अवसर दें।”

2. शिक्षा से बच्चों की ऊंचाई तक:

“शिक्षा उनके परिप्रेक्ष्य में एक अद्वितीय साक्षरता है, जो उन्हें आगे बढ़ने में मदद करेगी। बच्चों को शिक्षा का सर्वोत्तम लाभ प्रदान करें।”

3. बच्चों को समर्थन दें:

“आपके समर्थन से बच्चे असीमित क्षमताओं को विकसित कर सकते हैं। उन्हें अपने अंदर के पोटेंशियल को खोजने का आत्मविश्वास मिलेगा।”

4. बच्चों के साथ समय बिताएं:

“आपका समय और प्यार उनके लिए सबसे मूल्यवान होता है। उनके साथ बिताए गए समय में उन्हें अपनी महत्वपूर्णता का आभास होगा।”

5. बच्चों को अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है:

“बच्चों को अपने विचार व्यक्त करने का स्वतंत्रता दें। उन्हें अपने अनुस्वार चलने और अपने मौलिकता को समझने का अधिकार है।”

6. प्रकृति से सम्बंध बनाएं:

“बच्चों को प्रकृति के साथ संबंध बनाए रखने का अधिकार है। उन्हें प्रकृति के सौंदर्य को समझने का अवसर दें और इसकी रक्षा करने के लिए समर्थ करें।”

इन संदेशों के माध्यम से आप बच्चों को समर्थन, समझदारी, और समर्थित बनाने में मदद कर सकते हैं।

Leave a Reply