Chardham Yatra 2023 : अक्षय तृतीया पर खुले गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट

249

देहरादून: Chardham Yatra 2023  शनिवार को अक्षय तृतीय के पावन पर्व पर गंगोत्री धाम व यमुनोत्री धाम के कपाट विधिवत हवन, पूजा-अर्चना, वैदिक मंत्रोच्चरण एवं धार्मिक रीति-रिवाज साथ खोले गए। अक्षय तृतीया के पावन मौके पर गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा का विधिवत श्रीगणेश हो गया है।

सम्बंधित समाचार पेज थ्री समाचार पत्र के डिजिटल संस्करण पर https://page3news.in/epaper/dehradun/23_April/23_April_2023.html

Chardham Yatra 2023

DG बंशीधर तिवारी ने गढ़वाली फिल्म ‘पधानी जी’ का प्रोमो किया लॉन्च

दोपहर 12: 35 बजे गंगोत्री के कपाट खुले गए तथा दोपहर 12.41 बजे यमुनोत्री के कपाट खोले गए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह ने गंगोत्री धाम की पूजा में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से संकल्प लिया। जबकि यमुनोत्री धाम में उपजिलाधिकारी जितेंद्र कुमार शामिल हुई। शनिवार को गंगोत्री धाम में करीब 8 हजार और यमुनोत्री धाम में करीब 5 हजार श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

गंगोत्री धाम के कपाट खुले

बड़ी संख्‍या में श्रद्धालु कपाट खोलने मुहूर्त के समय गंगोत्री धाम पहुंचे। मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी ने भी गंगोत्री धाम पहुंचकर मां गंगा का आशीर्वाद लिया।

चारों धामों में श्रद्धालुओं की संख्या की सीमा हटाई

उत्तराखंड में शनिवार को गंगोत्री व यमुनोत्री धामों के कपाट खुलने के साथ ही प्रारंभ होने जा रही चारधाम यात्रा (Chardham Yatra 2023) को लेकर धामी सरकार ने महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इस कड़ी में चारों धामों बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में प्रतिदिन दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की संख्या सीमित रखने के निर्णय को वापस ले लिया गया है। धामों में दर्शन को संख्या निर्धारित करने को लेकर तीर्थ पुरोहितों के साथ ही चारधाम यात्रा मार्गों से जुड़े कारोबारियों के मध्य से विरोध के सुर उठ रहे थे। इसे देखते हुए सरकार ने यात्रा शुरू होने से एक दिन पहले यह कदम उठाया है। धामों में तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए टोकन व्यवस्था लागू रहेगी।

16 लाख से अधिक यात्री पंजीकरण

21 फरवरी से आनलाइन पंजीकरण खोले गए हैं। अब तक 16 लाख से अधिक यात्री पंजीकरण करा चुके हैं। इसके साथ ही सरकार ने चारों धामों में प्रतिदिन दर्शन के लिए यात्रियों की संख्या निर्धारित कर दी थी। बदरीनाथ में प्रतिदिन 18000, केदारनाथ में 15000, गंगोत्री में 9500 व यमुनोत्री में 5500 प्रतिदिन की संख्या तय की गई थी। कुछ समय पहले तीर्थ पुरोहितों और चारधाम यात्रा मार्गों से जुड़े कारोबारियों ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात कर इस सीमा को हटाने का आग्रह किया था।

बदरी-केदार के कपाट खुलने की तिथियां

धाम, तिथि
केदारनाथ, 25 अप्रैल
बदरीनाथ, 27 अप्रैल

Dehradun : मुख्य सेवक सदन में मुख्यमंत्री ने सुनी जन समस्याएं

Leave a Reply