Cyclone Michaung : ‘मिचौंग’ का कहर जारी…कई ट्रेनें और फ्लाइट रद

95

चेन्नई। Cyclone Michaung :  चक्रवाती तूफान ‘मिचौंग’ मंगलवार को दक्षिण आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु तटों से टकरा सकता है। मौसम विभाग ने कहा कि 90 से 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है। मिचौंग भीषण चक्रवाती तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कई स्थानों पर भारी वर्षा हो रही है। कई ट्रेनें और उड़ानें रद की गई हैं।

Uttarkashi Tunnel : कंपनी वहन करेगी सिलक्यारा सुरंग बचाव अभियान का खर्च

रेलवे ने चेन्नई में आपातकालीन सेल, दिल्ली में वार रूम स्थापित किया है। मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों में आंधी के साथ भारी बारिश की संभावना जताई है। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना और पुडुचेरी में तूफान का असर दिखेगा। भारत मौसम विभाग (आइएमडी) ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, सोमवार दोपहर ढाई बजे मिचौंग चेन्नई से करीब 100 किलोमीटर उत्तर-पूर्व और नेल्लोर से 120 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में केंद्रित था। यह धीरे-धीरे तेज होगा और उत्तर की ओर बढ़ेगा। अमरावती मौसम विज्ञान केंद्र के अधिकारी ने कहा कि तूफान के धीरे-धीरे तीव्र होने और पांच दिसंबर की सुबह बापटला के करीब नेल्लोर और मछलीपट्टनम को पार करने की संभावना है।

म्यांमार ने दिया है मिचौंग नामतूफान को म्यांमार ने मिचौंग नाम दिया है। इसका अर्थ है ²ढ़ता। इसे काफी शक्तिशाली तूफान माना जा रहा है और इसी आधार पर यह नामकरण किया गया है। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग संगठनों द्वारा चक्रवातों का नाम रखा जाता है। उत्तरी हिंद महासागर में आने वाले तूफानों को नाम देने के लिए भारत समेत 13 देशों का एक समूह है। भारत, बांग्लादेश, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान, थाइलैंड, श्रीलंका, ईरान, कतर, सऊदी अरब, यूएई और यमन बारी-बारी से तूफान का नाम निर्धारित करते हैं।

आंध्र प्रदेश सरकार ने जारी किया अलर्ट अमरावती
आंध्र प्रदेश सरकार ने मिचौंग के कारण आठ जिलों के लिए अलर्ट जारी किया है। इनमें तिरुपति, नेल्लोर, प्रकाशम, बापटला, कृष्णा, पश्चिम गोदावरी, कोनसीमा और काकीनाडा जिले शामिल हैं। मुख्यमंत्री वाईएस. जगन मोहन रेड्डी ने सोमवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चक्रवात पर समीक्षा बैठक की। राहत प्रयासों में शामिल होने के लिए सोमवार से वरिष्ठ आइएएस अधिकारियों को प्रभावित जिलों में विशेष अधिकारियों के रूप में तैनात करने का निर्णय लिया गया है। पांच राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और इतनी ही संख्या में राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीमें तैनात की गई हैं।

अमित शाह ने तमिलनाडु, आंध्र, पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों से की बात
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने चक्रवात मिचौंग के कारण उत्पन्न स्थिति पर सोमवार को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन. रंगास्वामी से बात की और उन्हें सभी आवश्यक केंद्रीय मदद का आश्वासन दिया। अमित शाह ने एक्स पर पोस्ट किया, चक्रवात के कारण उत्पन्न चुनौतीपूर्ण स्थिति से निपटने के लिए किए गए उपायों का जायजा लिया। मोदी सरकार की ओर से सभी आवश्यक सहायता का आश्वासन दिया। एनडीआरएफ की पर्याप्त तैनाती पहले ही की जा चुकी है। अतिरिक्त टीमें आगे की सहायता के लिए तैयार हैं।

तमिलनाडु में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त
चेन्नई और उसके पड़ोसी जिलों में लगातार बारिश के कारण सोमवार को जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। कई इलाकों में बाढ़ आ गई है। बिजली आपूर्ति बाधित होने से बिजली आपूर्ति बाधित हो गई है। कई ट्रेनें और उड़ानें रद होने से परिवहन सेवाएं प्रभावित हुईं। कई जगह पेड़ उखड़ गए। चेन्नई के कई हिस्से और आसपास के कांचीपुरम, चेंगलपट्टू और तिरुवल्लूर जिले में बाढ़ आ गई है। चक्रवात के मद्देनजर तमिलनाडु सरकार ने चेन्नई, तिरुवल्लूर, कांचीपुरम और चेंगलपट्टू जिलों में सभी शैक्षणिक संस्थानों, सरकारी और निजी कार्यालयों, वित्तीय संस्थानों और बैंकों के लिए मंगलवार को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है।

कई उड़ानें हुईं रद
सरकार ने निजी कंपनियों से आग्रह किया है कि वे अपने कर्मचारियों को पांच दिसंबर को प्रभावित क्षेत्रों में घर से काम करने की अनुमति दें। हालांकि, सभी आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। प्रभावित जिलों में बचाव प्रयासों के लिए 250 एनडीआरएफ कर्मियों वाली 10 टीमों को तैनात किया गया है। लगातार बारिश के कारण चेन्नई हवाईअड्डे पर आने और जाने वाली लगभग 70 उड़ानें रद कर दी गईं। एअर इंडिया ने चेन्नई हवाईअड्डे से आने-जाने वाली उड़ानों को सोमवार रात 11 बजे तक अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। कुछ अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद किया गया जबकि कुछ उड़ानों को बेंगलुरु डायवर्ट किया गया।

Congress Party : तीन राज्यों में हार के बाद कांग्रेस ने यूपी में बदल दी रणनीति

 

Leave a Reply