Chandrayaan-3 : शिव शक्ति प्वाइंट पर सूर्योदय का हो रहा इंतजार

117

बेंगलुरु। Chandrayaan 3  विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर के लिए 22 सितंबर का दिन बेहद खास होने वाला है। दरअसल, चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर कल फिर सूर्योदय होगा। सूर्योदय के चलते ISRO चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर एक बार फिर ‘जगाने’ की कोशिश करेगा।

Sukha Duneke killed : गैंगस्टर सुक्खा ढेर, NIA की मोस्ट वांटेड लिस्ट में था

लैंडर और रोवर को फिर एक्टिव करने की होगी कोशिश

सूर्योदय को देखते हुए इसरो के वैज्ञानिकों ने भी अपनी तैयारी पूरी कर ली है। चांद के शिव शक्ति प्वाइंट (Chandrayaan-3) पर सूर्योदय होने के साथ ही कल लैंडर और रोवर को एक बार फिर एक्टिव करने की कोशिश की जाएगी। ISRO को इस प्रक्रिया में कामयाबी मिलना एक बड़ी उपलब्धि होगी।

साउथ पोल पर कितने दिनों में सूर्योदय होता है?

चांद के साउथ पोल पर कई जगह ऐसी है जहां हर 15 दिन में सूरज की रोशनी पड़ती है। जिस जगह लैंडर उतरा है, वहां 15 दिन सूरज चमकता है और 15 दिन अंधेरा रहता है।

एस सोमनाथ का आया बयान (Chandrayaan-3)

ISRO अध्यक्ष एस सोमनाथ ने कहा कि जब शिव शक्ति प्वाइंट (चांद के साउथ पोल पर जहां लैंडर उतरा था) पर सूर्योदय होगा, तो लैंडर और रोवर फिर से सक्रिय हो जाएंगे। इसरो दोनों को फिर से चालू करने की कोशिश करेंगी। सोमनाथ ने कहा कि उम्मीद है कि 22 सितंबर को दोनों उपकरण आसानी से चालू हो जाएंगे।

दोनों की बैटरी है चार्ज

इसरो द्वारा मिली जानकारी के अनुसार, विक्रम और प्रज्ञान पर लगे उपकरणों की बैटरी अभी चार्ज है। बता दें कि यह बैटरी सूरज की रोशनी से चार्ज होती है। स्लीप मोड पर जाने से पहले दोनों की बैटरियों को चार्ज कर दिया गया था और सौर पैनलों को इस तरह से सेट किया गया है कि सूरज की पहली किरण उन पर पड़े।

Allahabad High Court : ‘प्रेम-प्रसंग के दौरान बना शारीरिक संबंध दुष्कर्म नहीं’- इलाहाबाद हाई कोर्ट

Leave a Reply