Bengaluru Cafe Blast : बेंगलुरु के जिस रामेश्वरम कैफे में हुआ ब्लास्ट

464

बेंगलुरु। Bangalore Cafe Blast : 1 मार्च की दोपहर बेंगलुरु के व्हाइटफील्ड इलाके में रामेश्वरम कैफे में विस्फोट के बाद हड़कंप मच गया। पहले तो लगा कि यह सिलेंडर ब्लास्ट का मामला है, लेकिन बाद में पता चला कि ये आईईडी ब्लास्ट था। इस हादसे में लगभग 10 लोग घायल हो गए थे।

ATM Inaugurated : मुख्यमंत्री ने किया चार-धामों में यात्रियों की सुविधा के लिए एटीएम का शुभारम्भ

कैफे की ओर से आया बयान

इस विस्फोट (Bengaluru Cafe Blast) के बाद जांच टीम तेजी से आरोपियों की तलाश में जुट गई है। इसी बीच, कैफे के मालिक ने कहा है कि वह अधिकारियों के साथ उनकी जांच में सहयोग कर रहे हैं। एक बयान में कैफे मालिक ने कहा, “हम अपनी ब्रुकफील्ड शाखा में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना से बहुत दुखी हैं। हम अधिकारियों के साथ उनकी जांच में सहयोग कर रहे हैं।”

कैफे के सह-संस्थापक और प्रबंध निदेशक, दिव्या राघवेंद्र राव ने कहा, “हमारी संवेदनाएं घायलों और उनके परिवारों के साथ हैं और हम उन्हें सभी सहायता और देखभाल देने की कोशिश कर रहे हैं। हम भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं कि सभी शीघ्र स्वस्थ हो जाएं।”

सभी एंगल से मामले की जांच कर रही पुलिस

बेंगलुरु पुलिस ने कैफे में विस्फोट (Bengaluru Cafe Blast) के संबंध में कड़े गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक, धमाके में स्टाफ और ग्राहकों समेत 10 लोग घायल हो गए है।

धमाका दोपहर 12:50 से 1 बजे के बीच हुआ, हालांकि इसमें कोई जनहानि नहीं हुई। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पुलिस ने कहा कि फोरेंसिक विशेषज्ञों और बम निरोधक दस्ते ने घटनास्थल का दौरा किया और मामले की सभी एंगल से जांच की जा रही है।

घायलों से मिलने अस्पताल पहुंचे केंद्रीय मंत्री

इस बीच, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने राज्यपाल थावर चंद गहलोत और राज्य भाजपा अध्यक्ष विजयेंद्र येदियुरप्पा के साथ अस्पताल में घायल लोगों से मुलाकात की।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर केंद्रीय मंत्री जोशी ने कहा, “आज बेंगलुरु के रामेश्वरम कैफे में हुई अमानवीय घटना वास्तव में निंदनीय है। मैंने राज्यपाल और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के साथ घायलों से मुलाकात की और स्थिति की जानकारी ली।”

Ayushman Card : मुफ्त इलाज कराने से बच रहे निजी अस्पतालों को लेकर सरकार सख्त

Leave a Reply