MCD Mayor Election : आम आदमी पार्टी की शैली ओबेरॉय चुनी गईं दिल्ली की नई मेयर

277

नई दिल्ली। MCD Mayor Election :  मेयर चुनाव कराने को लेकर लगातार तीन बैठकों से बने गतिरोध के बाद अब आज बुधवार को दिल्ली को नया मेयर मिल गया है। ताजा जानकारी के मुताबिक, मेयर चुनाव में आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार शैली ओबेरॉय (Shelly Oberoi) ने जीत दर्ज की है। हालांकि, अभी तक इसका आधिकारिक एलान नहीं किया गया है। लेकिन दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर शैली ओबेरॉय की जीत का दावा किया है।

UP Budget 2023 : योगी सरकार ने पेश क‍िया करीब 6.90 लाख करोड़ का बजट

अब उप मेयर पद के लिए होगी वोटिंग

मेयर पद पर आप की उम्मीदवार शैली ओबेरॉय के जीत दर्ज करने के बाद अब उप मेयर पद के लिए वोटिंग होगी। इससे पहले माना जा रहा था कि उप मेयर पद के लिए निर्विरोध चुनाव हो सकता है।

शैली ओबेरॉय को जीत की बधाई- सिसोदिया

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर दावा किया कि आम आदमी पार्टी की मेयर प्रत्याशी शैली ओबेरॉय ने जीत दर्ज की है।

मेयर चुनाव के लिए वोटिंग पूरी, वोटों की गिनती शुरू

दिल्ली मेयर चुनाव के लिए वोटिंग पूरी हो गई है। मेयर चुनाव में आप को 150 और भाजपा को 116 वोट मिले हैं। वहीं, कांग्रेस के पार्षदों ने वोटिंग से खुद को अलग किया था। वोटिंग प्रक्रिया पूरी होने के बाद मेयर प्रत्याशी के साथ एक और पार्षद को गिनती में मौजूद रहने के लिए बुलाया गया।

अब दो केंद्रों पर होगा मतदान (MCD Mayor Election)

समय ज्यादा लगते देख अब दो मतदान केंद्रों से मेयर का चुनाव कराया जाएगा। आम आदमी पार्टी की मांग पर पीठासीन अधिकारी ने इसकी इजाजत दी है।

AAP के उप-मेयर पद के प्रत्याशी ने डाला वोट

Delhi Mayor Election: आम आदमी पार्टी (आप) के उप-मेयर पद के प्रत्याशी आले मोहम्मद इकबाल ने मतदान किया।

एक साल बाद दिल्ली को मिलने जा रहा मेयर- AAP

मेयर चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने कहा, “आज एक साल बाद दिल्ली को अपना मेयर मिलने जा रहा है। हम उम्मीद करते हैं कि BJP बिना गुंडागर्दी किए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करेगी और शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव करवाएगी।”

भाजपा सांसदों ने पहले डाला वोट (MCD Mayor Election)

सदन की बैठक शुरू होते ही पहले वोट डालने के लिए भाजपा सांसदों को बुलाया गया। इस बीच, भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी, हंसराज हंस सहित अन्य मतदान किया। इसके बाद अब विधायकों को वोट डालने के लिए बुलाया गया है।

इस दौरान आप नेता मुकेश गोयल ने कहा कि उनकी एक पार्षद श्वेता निगम की तबीयत खराब है इसलिए उन्हें पहले वोट डालने दिया जाए। इस पर पीठासीन अधिकारी ने विधायकों के बाद वोट डालने की अनुमति दी। अब तक करीब 50 पार्षद अपना वोट डाल चुके हैं।

 कांग्रेस पार्षदों ने किया वोटिंग का बहिष्कार

एमसीडी सदन की बैठक में कांग्रेस के पार्षद अभी तक नहीं आए हैं। वह मेयर चुनाव को लेकर होने वाली वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं।

कांग्रेस पार्षदों ने किया वोटिंग का बहिष्कार

एमसीडी सदन की बैठक में कांग्रेस के पार्षद अभी तक नहीं आए हैं। वह मेयर चुनाव को लेकर होने वाली वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं।

अब तक निगम में क्या क्या हुआ?

-4 दिसंबर, 2022 दिल्ली नगर निगम की 250 सीटों पर आम चुनाव हुआ-7 दिसंबर को परिणाम में आप को बहुमत मिला। आप को 134, भाजपा को 104 और तीन निर्दलीयों के साथ कांग्रेस को नौ सीटें मिलीं
-छह जनवरी 2023 को निगम सदन की बैठक हुई जो कि पीठासीन अधिकारी की शपथ के बाद आप-भाजपा पार्षदों के हंगामे के चलते स्थगित हो गई
-24 जनवरी को फिर से बैठक हुई। इसमें पार्षदों का शपथग्रहण हुआ, लेकिन फिर हंगामे के चलते बैठक स्थगित हो गई
-26 जनवरी को आप ने महापौर चुनाव कराने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की
-30 जनवरी को महापौर चुनाव के लिए निगम ने 10 फरवरी का प्रस्ताव दिल्ली सरकार को भेजा। दिल्ली सरकार की ओर से 3, 4 और छह फरवरी का प्रस्ताव उपराज्यपाल को भेजा गया
-एक फरवरी को उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने महापौर चुनाव के लिए छह फरवरी की तारीख निर्धारित की
-तीन फरवरी सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका को आम आदमी पार्टी ने वापस लिया
-6 फरवरी को महापौर चुनाव को लेकर तीसरी बैठक आयोजित हुई, लेकिन हंगामे के कारण बैठक को फिर स्थगित कर दिया गया
-छह फरवरी को महापौर चुनाव कराने को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) ने फिर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की
-8 फरवरी को महापौर चुनाव को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने उपराज्यपाल, दिल्ली सरकार, निगम और पीठासीन अधिकारी से जवाब मांगा
-9 फरवरी को दिल्ली नगर निगम के प्रस्ताव पर 16 फरवरी को चुनाव कराने के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए उपराज्यपाल को भेज दिया है।

क्रास वोटिंग के आसार

दिल्ली में मेयर और उपमेयर चुनाव के बाद स्थायी समिति के छह सदस्यों के चुनाव भी बुधवार को होने वाले हैं। यह चुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि छह पदों के लिए भाजपा के तीन प्रत्याशियों की जगह आम आदमी पार्टी (आप) ने चार प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है। ऐसे में भाजपा और आप दोनों की तरफ से क्रॉस वोटिंग के आसार हैं।

Junaid-Nasir Murder Case : ओवैसी ने एक बार फिर गहलोत सरकार को घेरा

Leave a Reply