सूरत से अपने घर आए प्रवासियों ने कहां देवेश्वर भट्ट का कभी नहीं भूलेंगे उपकार

0
317
ट्रेन टिकट को लेकर जहां राजनीतिक दल एक दूसरे पर छीटाकाशी कर रहे हैं उसी दौरान उत्तराखंड मूल के सूरत में रहने वाले देवेश्वर भट्ट ने उत्तराखंड वासियों के ट्रेन का टिकट का खर्चा उठाकर एक मिसाल पेश की है ।
देवेश्वर भट्ट की बेटी सपना ने अपने पिता का एक वीडियो बनाया है जिसमें उन्होंने बताया कि उनके पिता देवेश्वर भट्ट ने प्रवासियों के लिए 1200 ट्रेन टिकट खरीदें है। इसके बाद उन्होंने अपने पिता से मुखातिब करवाया। इस दौरान देवेश्वर भट्ट ने कहा कि कोरोना के कहर के कारण गुजरात में भी सभी फैक्ट्रियां होटल बंद हो गए है। जिसके कारण प्रधानमंत्री के गृह क्षेत्र में रह रहे पहाड़ के लोगों ने भी वापिस उत्तराखंड जाने का मन बना लिया। गुजरात में रह रहे पहाड़ के कई लोग उनसे वाफिक थे। वह जानते थे कि गुजरात में उनकी कोई मदद कर सकता है तो वह उत्तराखंड प्रवासी उक्रांद के गुजरात अध्यक्ष देवेश्वर भट्ट ही कर सकते हैं। जिसके बाद कई लोगों ने उन्हें मैसेज फेसबुक से उन्हें संपर्क किया । देवेश्वर बताते है कि  उन्होंने लोगो को  समझाने  की कोशिश की लेकिन वह यहाँ एक पल भी रुकने के लिए तैयार नही हुए।
जिसके बाद उन्होंने सूरत में रह रहे समाजसेवी गोपाल स्वामी की मदद से इन लोगों के लिए ट्रेन की टिकट खरीदें और उनकी घर वापसी कराई। देवेश्वर भट्ट के इस कार्य के लिए प्रवासियों ने उनका आभार जताया है और कहा कि उनकी इस मदद के लिए वो उन्हें कभी नहीं भूलेंगे

 

 

LEAVE A REPLY