निदेशालय में प्रशिक्षित बेरोजगारों का धरना,सरकार व शिक्षा विभाग के खिलाफ प्रदर्शन

0
170

देहरादून। उत्तराखंड द्विवर्षीय डायट डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार संगठन से जुड़े प्रशिक्षित बेरोजगार प्रशिक्षण के उपरांत नियुक्ति की मांग को लेकर उत्तराखंड के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान से  डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगारों का धरना शिक्षा निदेशालय में जारी रहा।

शिक्षा क्षेत्र के श्रेष्ठ शिक्षकों का सम्मान,उच्च अंक प्राप्त छात्र-छात्राओं का किया अभिनन्दन

पवन मुस्यूनी ने कहा कि

यहां ननूरखेडा स्थित शिक्षा निदेशालय में प्रशिक्षित बेरोजगारों का धरना जारी रहा और इस अवसर पर उन्होंने सरकार व शिक्षा विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस अवसर पर संगठन के प्रदेश अध्यक्ष पवन मुस्यूनी ने कहा कि दो वर्ष का अनुशासित प्रशिक्षण पूर्ण होने के उपरांत भी विभाग द्वारा अभी तक नियुक्ति नहीं दी गई है, इसलिए आज बागेश्वर अल्मोड़ा उधम सिंह नगर  आदि जनपदों  के प्रशिक्षितों ने अपनी मांग के लिए निदेशालय में डेरा डाल लिया है। इस अवसर पर  प्रशिक्षितों ने कहा कि राज्य के प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक के पद पर अनेक फर्जी शिक्षक कार्यरत है और डायट से डीएलएड बीटीसी प्रशिक्षितो  के प्रमाण पत्रों की जांच तो प्रशिक्षण में चयन के समय हो चुकी है फिर भी विभाग हमारी मांग के प्रति उदासीन बना हुआ है।

इस अवसर पर प्रशिक्षितों ने कहा कि

इस अवसर पर प्रशिक्षितों ने कहा कि  इतना ही नहीं उत्तराखंड एकमात्र ऐसा राज्य है जहां डीएलएड प्रशिक्षण के लिए सेवायोजन के मानकों को अपनाया जाता हैजो कि पटवारी भर्ती में भी अपनाया जाता है, यदि विभाग की ऐसी उदासीनता रही तो जल्द ही प्रशिक्षित आमरण अनशन करने को विवश होंगे। इस अवसर पर संगठन के मीडिया प्रभारी अमित मैंदोली ने कहा है कि लगातार संघर्ष करने के बावजूद भी आज तक विभाग ने किसी भी प्रकार की सुध नहीं ली है जिससे बेरोजगारों में व्यापक स्तर पर रोष है।

उन्होंने कहा कि जल्द ही उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया तो उग्र आंदोलन किया जायेगा और इसके लिए रणनीति तैयार की जायेगी। इस अवसर पर धरना देने वालों में शुभम शाह, नरेंद्र कार्की, गौरव यादव, प्रकाश रानी, श्वेता राजपाल, रंजीत असवाल, दीपक, उपेंद्र समेत  अन्य प्रशिक्षित मौजूद रहे।

सड़क के बीचों बीच आये हुए विद्युत पोलों को तत्काल हटाये जाने की मांग को लेकर युवा कांग्रेस का प्रदर्शन

LEAVE A REPLY