लॉक डाउन:पहाड़ लौटे युवाओं ने बनाई 3 किलोमीटर की सड़क,पहली बार गाँव में टूव्हीलर देख हुए भावुक

0
391
आज डेढ़ महीने बाद हमें लॉक डाउन से कुछ हद तक  छुटकारा मिल गया है इस दौरान हम यह समझ गए कि घर में कैद होकर रहना बेहद मुश्किल है, सोचिए उन लोगों पर क्या गुजर रही होगी जो सालों से लॉक डॉउन जैसी स्थिति में जी रहे है ।
नैनीताल के एक छोटे से गांव की कुछ यही स्थिति है इस गांव में शहर जाने तक के लिए सड़क नहीं है जिसके कारण बहुत ही कम बार  ग्रामीण शहर की और निकलते हैं ज्यादातर समय गांव और खेत में बिताने में मजबूर है लेकिन आज शुक्र है नियति का जिसने पहली बार गांव के सारे लोग गांव में पहुंचा दिए। जिससे गांववासियों को सालों की समस्या से हमेशा-हमेशा के लिए छुटकारा मिल गया।  आइए आपको इस गाँव  के युवाओं  की नई उपलब्धि से रूबरू कराते हैं
नैनीताल के बेतालघाट ब्लॉक का दूरस्थ गांव जिनोली के कुछ युवा लॉक डाउन से 1 दिन पहले अपने गांव में पहुंचे। लोगों की घोषणा के बाद इन युवाओं ने अपना अधिकतर समय गांव की सड़क बनाने में लगा दिया आज करीब इन्होंने 3 किलोमीटर तक सड़क बना दी है।इन लोगों ने सकदीना मोटर मार्ग के पटोरी चौक से करीब 3 किलोमीटर लंबी सड़क काटकर अपने गांव तक वाहन पहुंचाने की व्यवस्था कर दी है।

गांव में पहली बार दो पहिया वाहन देखकर ग्रामीण भावुक हो गए। इस दौरान युवकों ने इसके लिए ग्रामीणों का भी धन्यवाद किया। गांव के  युवा पंकज नैनवाल  ने बताया कि कई युवा अन्य अन्य जगहों में नौकरी कर रहे थे और इन दिनों लॉक डाउन  के कारण घर आए थे ऐसे में सभी लोग एक साथ घर आए और सब ने यह निर्णय लिया कि वह अपने खाली समय में गांव की जो सड़क आज तक  नही बनी उसे बनाएंगे। फिर क्या था सब इकट्ठा हुए और बना दी सड़क।

LEAVE A REPLY