हाट कालिका मंदिर को लाएं विश्व पर्यटन मानचित्र परः धानिक

0
631

पिथौरागढ़ में व्यापार संघ ने वित्त मंत्री को ज्ञापन देकर प्रसिद्ध हाट कालिका मंदिर को विश्व पर्यटन मानचित्र में स्थान दिलाने की मांग की है। व्यापार संघ अध्यक्ष हरीश धानिक ने कहा कि हाटकालिका मंदिर विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ है। यहां हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन को आते हैं। यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। इसके बावजूद भी आज तक इस मंदिर को विश्व पर्यटन से नहीं जोड़ा गया है। जिस कारण यहां के लोगों को रोजगार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

व्यापार संघ ने गंगोलीहाट बाजार में व्यापार संघ भवन बनाने, मुख्य बाजार में गेस्ट हाउस से दशाईथल तक चार शौचालय बनाए जाने, क्षेत्र में खेल मैदान का निर्माण करने, जागेश्वर नैनी पव्वाधार से दशाईथल आंवलाघाट मोटर मार्ग का निर्माण करने की भी मांग वित्त मंत्री से की।

नगर पंचायत के किए निर्माण कार्यों की जांच कराने की मांग

उन्होंने गराली से चंडिका घाट तक वन अधिनियम के पेंच में फंसी सड़क की समस्या दूर करने, खेतीगाड़ा से भगौरा बाइपास सड़क का निर्माण करने, सीएचसी में रिक्त चिकित्सकों व अन्य पदों पर तैनाती किए जाने की मां भी वित्त मंत्री के सामने रखी। व्यापारियों ने नगर पंचायत की ओर कराए जा रहे निर्माण कार्यों की जांच की मांग भी की। इस मौके पर उपाध्यक्ष संजय रावल, महासचिव बब्लू, संरक्षक प्रदीप पंत, दुर्गा दत्त पंत, खष्टी शाह, किशन सिंह, नरेंद्र बोरा आदि शामिल थे।

व्यापार संघ के पदाधिकारियों ने वित्त मंत्री से कहा कि गंगोलीहाट में वर्ष 2005 से गंगावली महोत्सव का आयोजन नहीं हुआ है। 12 वर्षों के बाद इस वर्ष मई माह में व्यापारियों ने गंगावली महोत्सव कराने का निर्णय लिया है। महोत्सव के सफल आयोजन के लिए उन्होंने सरकार से आर्थिक सहयोग की मांग की।

भूतपूर्व सैनिक कल्याण समिति ने सरकार से यहां सीएसडी कैंटीन के लिए पूर्व में पीडब्ल्यूडी गैस्ट हाउस के समीप स्थित कस्तूरबा गांधी स्कूल के भवन को स्टेशन मुख्यालय पिथौरागढ़ को हस्तांतरित करने की मांग की। उन्होंने वित्त मंत्री के सामने आर्मी व सेंट्रल स्कूल और सैनिक विश्राम गृह की मांग रखी। कहा कि पूर्व सीएम बीसी खण्डूडी के समय सैनिक विश्राम गृह निर्माण के लिए 3 नाली भूमि स्वीकृत कीगई थी। लेकिन वर्तमान समय तक इस मामले में कोई भी कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिससे पूर्व सैनिक स्वयं का ठगा महसूस कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY