गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय श्रीनगर के फाइनल सेमेस्टर की परीक्षाएं आगामी एक जुलाई से

0
200

श्रीनगर । गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय श्रीनगर के फाइनल सेमेस्टर की परीक्षाएं आगामी एक जुलाई से शुरू होंगी। परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे। इसमें स्नातक स्तर पर 35 प्रश्न और पीजी परीक्षा में 30 प्रश्न होंगे। दो-दो अंकों का एक प्रश्न होगा। 70 अंकों की इस परीक्षा में समयावधि भी पहले की अपेक्षा कम होकर एक घंटा होगी।

विवि की प्रवेश कमेटी द्वारा पीजी प्रवेश परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा। मेरिट के आधार पर पीजी में प्रवेश देने के निर्णय का अनुमोदन करने के साथ ही विवि एकेडमिक काउंसिल ने विवि प्रवेश कमेटी द्वारा लिए गए अन्य सभी निर्णयों का भी अनुमोदन किया।

गढ़वाल केंद्रीय विवि एकेडमिक काउंसिल की ऑनलाइन बैठक हुई। विभिन्न कक्षाओं विशेषकर विज्ञान विषयों की कक्षाओं के प्रैक्टीकल करवाने पर भी मंथन हुआ। इंटरनल एग्जाम को लेकर कुलपति प्रो. अन्नपूर्णा नौटियाल ने निर्देश दिए कि संबंधित विभाग स्वयं समय पर इंटरनल परीक्षा करा लें। परीक्षाओं में शारीरिक दूरी के नियम का कड़ाई से पालन करने पर भी सहमति बनी। जिसके लिए परीक्षा कार्यक्रम में उसी अनुरूप बनाया जाएगा।

एकेडमिक काउंसिल ने निर्णय लिया

कोविड-19 को दृष्टिगत रख यूजीसी द्वारा जारी की गयी गाइडलाइन पर भी विचार कर एकेडमिक काउंसिल ने निर्णय लिया कि स्नातक स्तर पर दूसरे, चैथे, छठे और पीजी स्तर पर दूसरे सेमेस्टर में प्राप्त अंकों के 50 प्रतिशत और इंटरनल असेसमेंट के 50 प्रतिशत अंकों के आधार पर संबंधित छात्र-छात्रओं को अगले सेमेस्टर में प्रवेश दे दिया जाएगा।

कुलपति प्रो. अन्नपूर्णा नौटियाल की अध्यक्षता में ऑनलाइन हुई विवि एकेडमिक काउंसिल की बैठक में विश्वविद्यालय के सभी संकाय अध्यक्षों, विभागाध्यक्षों, संबद्ध कॉलेजों के प्राचार्यों के साथ ही कुलसचिव डॉ. एके झा, परीक्षा नियंत्रक प्रो. आरसी भट्ट, डीएडब्ल्यू प्रो. पीएस राणा और विवि के पौड़ी, टिहरी परिसर निदेशकों ने भी प्रतिभाग किया। एकेडमिक काउंसिल की यह ऑनलाइन बैठक लगभग दो घंटे चली।

पीएचडी थीसिस जमा करने को अतिरिक्त समय की सिफारिश

शोध छात्रों को शोधग्रंथ जमा करने के लिए अतिरिक्त समय दिए जाने के विवि एकेडमिक काउंसिल के निर्णय पर अब गढ़वाल केंद्रीय विवि यूजीसी को संस्तुति पत्र लिखेगा। कोविड-19 को दृष्टिगत रख यूजीसी द्वारा पीएचडी थीसिस जमा करने के लिए शोध छात्र को छह माह का अतिरिक्त समय दिया गया है।

पीएचडी पूरी हो जाने पर किया जाने वाला प्री-सबमिशन प्रजेंटेशन भी ऑनलाइन किया जा सकता है। पीएचडी की थीसिस जमा होने के बाद शोधार्थी का साक्षात्कार भी ऑनलाइन लिए जाने को स्वीकृति मिल गयी है।

कोरोना संक्रमण से बचाव को ऑनलाइन क्विज

कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव को लेकर छात्रों और युवाओं के साथ ही आमजन को भी जागरूक बनाने को लेकर गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना विभाग की ओर से ऑनलाइन क्विज का आयोजन किया जा रहा है।

‘कोविड-19 अवेयरनेस एंड रोल ऑफ एनएसएस वॉलंटियर इन पैंडेमिक सिचुएशन’ विषय पर शुरू हुए इस ऑनलाइन क्विज में 1500 एनएसएस स्वयंसेवी छात्र-छात्रएं प्रतिभाग कर रहे हैं। गढ़वाल केंद्रीय विवि के एनएसएस संयोजक प्रो. ओके बेलवाल ने कहा कि विश्वविद्यालय के साथ ही यदि माध्यमिक विद्यालयों के एनएसएस छात्र-छात्रएं भी इस ऑनलाइन क्विज में भाग लेना चाहते हैं तो संपर्क कर सकते हैं।

अन्य समाचार:-सीबीएसई बोर्ड :10वीं-12वीं की डेटशीट जारी,जानें कब होगी कौन सी परीक्षा

विश्वविद्यालय एनएसएस की वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी डॉ. ममता आर्य ने कहा कि इस प्रतियोगिता में 60 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को ई प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किए जाएंगे। कोरोना महामारी से बचाव को लेकर समाज को और जागरूक बनाने में विवि छात्रों और युवाओं की भूमिका अहम भी है।

डॉ. आर्य ने कहा कि इस ऑनलाइन प्रतियोगिता में प्रतिदिन 100 छात्र प्रतिभाग कर रहे हैं, जिसके लिए उन्हें लिंक प्रोवाइड भी कराया जाता है। ऑनलाइन क्विज में वस्तुनिष्ठ प्रश्न होते हैं। एनएसएस के कार्यक्रम अधिकारी डॉ. सोमेश थपलियाल आयोजन में सहयोग कर रहे हैं। विश्वविद्यालय एनएसएस समन्वयक प्रो. बेलवाल के दिशा-निर्देश में इस ऑनलाइन क्विज में प्रतिभाग करने को लेकर एनएसएस से अतिरिक्त अन्य विवि छात्र-छात्रओं में भी उत्साह देखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY