उत्पीड़न के खिलाफ कांग्रेस का धरना प्रदर्शन

0
114

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी की निवर्तमान प्रवक्ता गरिमा महरा दसौनी ने कहा है कि कल 5 नवम्बर को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में देश में बढ़ती महिलाओं एवं दलितों के उत्पीड़न के खिलाफ के मददेनजर धरना प्रदर्शन किया जायेगा।

टेक्‍सटाइल गोदाम में आग लगने से चार लोगों की मौत

उत्पीड़न के खिलाफद देनजर धरना प्रदर्शन

जिस तरह से भाजपा बडे-बडे दावे वादों के साथ सत्ता पर काबिज हुई थी उसमें से प्रमुख थे देश की आधी आबादी यानि मातृ शक्ति को सम्मान दिलाना जिसके तहत ’’बेटी बचाओं बेटी पढाओं का नारा दिया गया लेकिन आज सच्चाई यह है कि भाजपा के राज में न बेटियां बच पा रही हैं और न पढ़ पा रही है। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि भाजपा के राज में कानून व्यवस्था सुद्वढ करना तो दूर की बात हमारी बच्चियों को जीते जी न मरने के बाद न्याय तक नही मिल पा रहा है जो चिंता का विषय है।

उन्होंने उत्तराखण्ड के परिपेक्ष्य में कहते हुए दसौनी ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को आड़ें हाथों लेते हुए कहा कि संगठन महामंत्री रहे संजय कुमार के यौन उत्पीड़न प्रकरण में तो भाजपा न्याय नही कर पाई लेकिन आज भाजपा के द्वाराहाट विधायक महेश नेगी सैक्स स्केंडल ने भाजपा को पूरी तरह से बेनकाब कर दिया है। उन्होंने कहा कि जीरो टॉलरेन्स की बात करने वाली भाजपा आज तीन महीने बीत जाने के बाद भी अपने यौन उत्पीड़न में संलिप्त विधायक पर कोई भी कार्रवाही नही कर पाई हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा जान पड़ता कि किसी के इशारों पर बंशीधर भगत बार-बार अपनी बयान बदल रहे हैं। पहले प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि आरोपी विधायक की जॉच हेतु संगठन एक समिति गठित करेगा जिसकी रिपोर्ट के उपरान्त ही विधायक पर कार्यवाही की जायेगी परन्तु अब यूटर्न लेते हुए बंशीधर भगत समिति गठित करने वाले अपने बयान से मुकर गये हैं और पुलिस की जॉच की बात कर रहे हैं।

भगत से सवाल किया है कि

इस अवसर पर दसौनी ने तीखे स्वर में भगत से सवाल किया है कि यदि भगत पुलिस द्वारा की जा रही जॉच पर ही निर्भर हैं तो पुलिस अपनी जॉच में इस बात की पुष्टि कर चुकी है कि द्वाराहाट के विधायक नेगी महिला के साथ किस-किस होटल और कौन-कौन से शहरों मंे घूम चुके हैं। फिर आंखिर क्या बात है कि अभी तक भाजपा का संगठन उक्त विधायक पर कार्यवाही करने बच रहा है। दसौनी ने पूछा है कि आंखिर भाजपा को या सरकार को अब किस सबूत का इंतजार है। उन्होंने कहा कि अच्छा होगा यदि इतनी कवायद करने के बजाय सीधे-सीधे भाजपा व शिकायतकर्ता महिला बच्ची की डीएनए जांच कराकर मिलान कराया जांय ताकि शीध्र देवभूमि को शर्मसार करने वाले इस प्रकरण को पटाक्षेप हो सके।

घरेलू वायदा बाजार में सोने-चांदी की कीमतों में अच्छी-खासी गिरावट

LEAVE A REPLY