15 August 1947: अथक प्रयासों से ही हमें स्वतंत्रता मिली:मुख्य सचिव

0
328

15 August 1947: मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने आज शनिवार को स्वतंत्रता दिवस के 73वें वर्षगांठ के अवसर पर सचिवालय में ध्वजारोहण किया। मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने उत्तराखण्ड वासियों एवं उपस्थित कर्मियां को स्वतंत्रता दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। मुख्य सचिव ने कहा कि आज के दिन हम उन पुण्य आत्माओं को याद करते हैं, जिनके बलिदान से हम स्वतंत्र हुए हैं, और हमें उन्हें नमन करने का यह अवसर प्राप्त हुआ है।

15 August 1947 के बाद देश ने चार बड़े बाहरी युद्ध लड़े

श्री ओमप्रकाश ने कहा कि शहीदां के बलिदान एवं हमारे पूर्वजों के अथक प्रयासों से ही हमें स्वतंत्रता मिली है। मुख्य सचिव ने कहा कि सन 1947 के बाद देश ने चार बड़े बाहरी युद्ध लड़े हैं, तथा आंतकवाद का सामना किया है, जिसमें हमारे कई सैनिक शहीद हुए हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में हमारे कुछ सैनिक निहत्थे दुश्मनों से लड़ते हुए हमारी सुरक्षा हेतु शहीद हुए है। उन्होंने शहीद जवानों को नमन किया।

डिजिटाईजेशन होने से आज लोगों को अनेक फायदे हो रहे:मुख्यमंत्री

मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य के विकास के साथ-साथ लोगां में समरसता कायम करने में भी हमारा सहयोग होता है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र के प्रति समर्पित भाव से काम करने की आवश्यकता है। मुख्य सचिव ने कहा कि वर्तमान में हम दो संक्रमणों से गुजर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के नेतृत्व में स्वास्थ्य, पुलिस एवं सफाईकर्मियों आदि की सहायता से कोरोना महामारी को हम छः माह में नियंत्रित करने में काफी सफल हुए है। उन्होंने कोरोना से लड़ने में योगदान देने वाले समस्त वारियर्स का आभार प्रकट किया।

कोरोना के कारण राज्य में रिवर्स पलायन हुआ है

उन्होंने लॉकडाउन से परेशान लोगों का भी आभार प्रकट किया। उनका कहना था कि लॉकडाउन करना तत्कालिक आवश्यकता थी। मुख्य सचिव ने कहा कि कोरोना के कारण सकल घरेलू उत्पाद में भी कमी आई है तथा बेरोजगारी बढ़ी है। कोरोना के कारण राज्य में रिवर्स पलायन हुआ है।

उत्तराखण्ड के संदर्भ में यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है कि लगभग 10 लाख उत्तराखण्डवासी अन्य स्थानों से यहां आए है। उन्हें आजीविका देनी की हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने प्रदेश की अर्थव्यवस्था के प्राथमिक क्षेत्र कृषि में ज्यादा ध्यान देनी की आवश्कता देने पर बल देते हुए कहा कि हमें किसानों को बिचोलियों के शोषण से शत प्रतिशत मुक्त करना हैं।

श्री ओमप्रकाश ने कहा कि प्रदेश में कृषि की उन्नति से देश के विकास में योगदान होगा। उन्होंने कहा कि हमारे सहक्रियात्मक विकास के प्रयास से प्रदेश एवं देश का समन्वित विकास होगा। पर्वतीय जनपद में समेकित परियोजना फॉरमूलेशन की अवधारणा से कार्य करने की आवश्यकता है।

उन्होंने रूद्रप्रयाग तथा अल्मोड़ा के जिलाधिकारियों के प्रयासों की सराहना करते हुए अन्य अधिकारियों से उनका अनुश्रवण करने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि कृषि के साथ-साथ उससे सम्बद्ध कुटीर एवं सूक्ष्म उद्योग प्रोत्साहन की आवश्यकता है। इससे ग्रामीणों की आर्थिकी में सुधार होगा।

स्किल डेवलपमेंट की भी ग्रामीण क्षेत्र में उपयोग की आवश्यकता

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में शासन तथा जनपद स्तर पर बाहर से आए बेरोजगार लोगों को स्थापित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि स्किल डेवलपमेंट की भी ग्रामीण क्षेत्र में उपयोग की आवश्यकता हैं। उनका कहना है कि यह एक सीमान्त राज्य है।

यहां सीमान्त क्षेत्र में अवस्थापना विकास कार्य में और तेजी लाने की अपील की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में चारधाम, पेयजल, रेलवे लाइन, निर्माण परियोजना में जो कठिनाईयां आ रही है उनको व्यक्तिगत प्रयास से भी हल करने की भी आवश्यकता है।

टीम भावना से कार्य करेंगे तो लक्ष्य हासिल हो जाएगा

उन्होंने भूतपूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के ‘जय जवान, जय किसान’ के नारे को प्रासंगिक बताते हुए सभी अधिकारियों एवं कर्मियों से आत्मप्रेरणा, स्वप्रेरणा से कार्य करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि टीम भावना से कार्य करेंगे तो लक्ष्य हासिल हो जाएगा और आत्मप्रेरणा एवं स्वप्रेरणा से नए-नए आयाम खुलेंगे।

उन्होंने महाकवि जयशंकर प्रसाद की पंक्तियों ‘‘ हिमाद्री तुंग शृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती, स्वयं प्रभा समुज्जवला स्वतंत्रता पुकारती, अमर्त्य वीर पुत्र हो, दृढ़ प्रतिज्ञ सोच लो, प्रशस्त पुण्य पंथ है, बढ़े चलो, बढ़े चलो, असंख्य कीर्ति-रशिमयाँ विकीर्ण दिव्य दाह-सी, सपूत मातृभूमि के-रूको न शूर साहसी, अराति सैन्य सिंधु में, सुवाडवाग्नि से जलो, प्रवीर हो जयी बनो-बढ़े चाले, बढ़े चलो’’ का उल्लेख करते हुए समस्त कर्मियों से इसका अनुश्रवण करने का आह्वान किया।

मुख्यमंत्री से चित्रकार राजेश चन्द्र, मानव थापा एवं शिवांश ने भेंट की

समारोह में अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी एवं श्रीमती मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव श्री आनन्द वर्द्धन, सचिव न्याय श्री प्रेम सिंह खिमाल, सचिव श्री अमित सिंह नेगी, श्री आर. मीनाक्षी सुन्दरम, श्री शैलेश बगोली, श्री आर.के.सुधांशु, श्री नितेश कुमार झा, श्री हरबंस सिंह चुघ, डी. सेन्थिल पाण्डियन, श्री एल.फैनई, प्रभारी सचिव डॉ पंकज पाण्डेय, विनोद रतूड़ी, सहित समस्त सचिव, अपर सचिव एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

15 August 1947

LEAVE A REPLY