दुखद समाचार … कुमाऊं के युवा लोकप्रिय लोकगायक पप्पू कार्की की सडक हादसे में जान गई

0
760

रिपोर्ट … page3news.co.in देहरादून। कुमाऊं के युवा लोकप्रिय लोकगायक पवेंद्र सिंह कार्की (पप्पू कार्की) की शनिवार सुबह हुए सड़क हादसे में जान चले गई। काठगोदाम हैड़ाखान रोड पर हैड़ाखान मन्दिर के समीप हाई स्पीड कार का नियंतत्रण खोने से वह हवा में पलटी खाकर सड़क से नीचे गिरी। कार में सवार पांच लोग थे। जिसमें से 3 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया, बाकि 2 घायलों जुगल पंत एवं अजय आर्या को आसपास के लोगों ने आपातकालीन एंबुलेंस 108 की मदद से हल्द्वानी रवाना किया गया। कृष्णा हास्पिटल में घायलों का उपचार चल रहा है। घटनाक्रम के अनुसार कुमाऊंनी युवा लोकगायक पप्पू कार्की अपने साथी कलाकारों के साथ गोनियारो गांव में हो रही रामलीला के कार्यक्रम में प्रस्तुति देने के बाद आज सुबह 5 बजे हल्द्वानी के लिए निकले थे। आधे रास्ते मे ही काल का कहर टूट पड़ा। इस दर्दनाक सड़क हादसे में पप्पू कार्की समेत गोनियारो गांव निवासी राजेन्द्र गोनिया (26) और पुष्कर गोनिया ( 25) की भी मौके पर ही मौत हो गयी। बता दें पप्पू कार्की का नाम उत्तराखंड के युवा लोकगायकों में काफी लोकप्रिय रहा है। उन्हें पप्पू कार्की के नाम से लोकप्रियता मिली। इनके नाम न सिर्फ कई सुपरहिट गानें हैं बल्कि कई अवार्ड भी हैं जो इन्हें गायकी के लिए मिले हैं। पप्पू कार्की का परिवार हल्द्वानी में रहता है। बचपन से संगीत के प्रति अपार रूचि रखने वाले पप्पू कार्की के हिट गानों की शुरूआत वर्ष 2010 से हुई। उनकी एल्बम ‘झम्म लांगदी’ आई जो बहुत ही हिट हुई। इसके बाद उनके पास एक से बढकर मौके आते रहे। इधर, कुमाऊं के युवा गायक पप्पू कार्की के साथ हुए इस दर्दनाक हादसे को जिसने भी सुना यकीन नहीं कर पाया। पप्पू कार्की की मौत की खबर से उत्तराखंड़ समेत देश भर में फैले उनके शुभचिंतकों में शोक की लहर दौड़ पड़ी।

पवेंद्र सिंह कार्की (पप्पू कार्की)

जन्म … जून 30, 1984 जन्म स्थान … शैलावन गांव, पिथौरागढ पिता … स्व श्री कृष्ण सिंह कार्की माता … श्रीमती कमला देवी पत्नी … कविता कार्की]]>