जानें … पर्वतीय क्षेत्रों के किसानों को उपज का उचित दाम कैसे दिला रही सरकार

0
684

रिपोर्ट … page3news.co.in
देहरादून। कृषि एवं उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में रिंग रोड स्थित माधो सिंह भंडारी कृषि भवन में मंडी परिषद, उद्यान विपणन बोर्ड, सीड सर्टिफिकेट एजेंसी, उद्यान और कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक हुई। बैठक में सीए स्टोरेज झाला एवं आई.क्यू.एफ. मंगलौर के संचालन, पर्वतीय क्षेत्रों के किसानों से उनकी खरीद के लिए मूल्य निर्धारण, नोथा एग्रो कलस्टर की स्थापना इत्यादि के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये।
मंत्री ने सेब के लिए विशेषकर सीए स्टोरेज झाला तथा मटर के लिए आई.क्यू.एफ. मंगलौर के संचालन के लिए उद्यान विभाग से मंडी परिषद को 5 वर्ष के लिए लीज पर संचालन करने के निर्देश दिये। उन्होने इस संबंध में एक सप्ताह में प्रस्ताव बनाने तथा किसानों को कोटे का 25 प्रतिशत् बेसिक रेट पर देने के भी निर्देश दिये। मंत्री ने पर्वतीय क्षेत्र के किसानों से चौलाई, मंडुवा, कुटू, गहत, राजमा, उड़द, सोयाबीन इत्यादि को मल्टी प्रोसेसिंग यूनिट के लिए खरीदे जाने वाले मूल्य पर मण्डी परिषद तथा कृषि अधिकारियों को बैठक कर निर्णय लेने के निर्देश दिये। उन्होने उद्यान व कृषि विभाग के एकीकरण, नौथा (टिहरी) में एग्रो कलस्टर को संचालित करने व आधारभूत सुविधाओं की स्थापना पर भी बैठक करते हुए समन्वय से निर्णय लेने के निर्देश दिये। बैठक में तय किया गया कि विपणन बोर्ड की पिछली बैठक में लिये गये निर्णय के क्रम में 5 करोड़ रूपये की धनराशि उद्यान विभाग के स्थान पर उद्यान विपणन बोर्ड देगा साथ ही आर्गेनिक एक्ट बनाने पर भी कार्य करने की बात कही गयी। इस अवसर पर अपर सचिव कृषि राम विलास यादव, एमडी मंडी परिषद धीराज सिंह गर्ब्याल, निदेशक कृषि गौरीशंकर, निदेशक उद्यान आर.सी श्रीवास्तव, मंडी परिषद से विजय कुमार तिवारी सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।