टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने उठाए सवाल

0
1212
page3newssourav ganguly
page3newssourav ganguly

नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट टीम इस वक्त वेस्टइंडीज दौरे पर है और यहां पर टीम इंडिया को क्रिकेट के तीनों प्रारूपों की सीरीज कैरेबियाई टीम के खिलाफ खेलनी है। टीम इंडिया के सिर्फ कुछ खिलाड़ी ही ऐसे हैं जो यहां पर तीनों सीरीज में खेलेंगे तो वहीं कुछ खिलाड़ी टी 20 तो कुछ वनडे तो कुछ टेस्ट सीरीज में खेलते दिखेंगे। इन्हीं में से भारतीय टीम के दो दिग्गज स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल हैं जिन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ टी 20 सीरीज के लिए टीम में जगह नहीं दी गई है।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली भारतीय टीम में लगातार हो रहे बदलाव से खुश नहीं हैं। उन्होँने कहा कि ज्यादा खिलाड़ियों को लगातार बदलना टीम के हित में नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को टी 20 टीम में जगह नहीं देने पर भी सवाल उठाए। गांगुली ने कहा कि अलग प्रारूप के लिए अलग खिलाड़ी रखना सही नहीं है। आपको ऐसे खिलाड़ियों की जरूरत है जो सभी प्रारूप में खेलें। मैं ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों को टीम में लाने और उन्हें बाहर करने के पक्ष में नहीं हूं। मैं स्थायित्व के पक्ष में हूं।

 चहल और कुलदीप को टी 20 टीम में क्यों नहीं चुना गया

इस वक्त टीम इंडिया में विराट कोहली, रोहित शर्मा, शिखर धवन, केएल राहुल, ऋषभ पंत और रवींद्र जडेजा ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो तीनों प्रारूपों के लिए चुनी गई टीम में हैं। गांगुली का कहना है कि बुमराह को समिति  प्रारूप के लिए आराम दिया गया है, लेकिन चहल और कुलदीप को टी 20 टीम में क्यों नहीं चुना गया, उन्होंने कौन सी लगती की है। यही नहीं न्यूजीलैंड दौरे पर जाने वाले शुभमन गिल को भी मौका नहीं दिया गया। इस बार श्रेयस अय्यर और मनीष पांडे को मौका मिला है और मुझे उम्मीद है कि उन्हें और ज्यादा मौके दिए जाएंगे। इस खिलाड़ियों को वेस्टइंडीज में होने वाली सीरीज के बाद भुलाया नहीं जाएगा।

सौरव गांगुली ने टीम इंडिया के बारे में कहा

सौरव गांगुली ने टीम इंडिया के बारे में कहा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में धैर्य की जरूरत होती है। वर्ष 2013 के बाद से हमने एक भी आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीता है। 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में हमें हार मिली। हम लगातार तीन आईसीसी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गए। ऐसे में हमें सेमीफाइनल से आगे जाने की जरूरत है। इंग्लैंड की टीम ने पिछले विश्व कप की हार से सीखा और इस बार विश्व विजेता बने। उन्होंने टीम इंडिया को सलाह देते हुए कहा कि टीम को सारा दबाव हटा देना चाहिए। मुझे लगता है कि टीम के खिलाड़ियों, टीम मैनेजमेंट और सेलेक्टर्स के बीच खुलकर बातचीत होनी चाहिए। हमें छोटे-छोटे प्रदर्शन की जगह बड़े प्रदर्शन की जरूरत है।

LEAVE A REPLY