Ankita Murder Case: पहले भी रिसॉर्ट से गायब हुई है एक युवती

3

ऋषिकेश: Ankita Murder Case  अंकिता हत्याकांड से जुड़े वनन्तरा रिसॉर्ट का विवादों से पुराना नाता रहा है। इस रिसॉर्ट से एक युवती पहले भी रहस्यमय परिस्थिति में लापता हुई थी। जिसके खिलाफ रिसॉर्ट स्वामी ने रिसॉर्ट के पैसे लेकर भागने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। रिसॉर्ट स्वामी पर पूर्व में एक युवक को बंधक बनाने का भी आरोप है।

CM meets Dr. Joshi: मुख्यमंत्री ने साइकिल यात्रा के लिए डॉ. जोशी को दी बधाई

पहले भी रिसॉर्ट से गायब हुई है एक युवती

गंगा भोगपुर में जहां अब वनन्तरा रिसॉर्ट मौजूद है, वहां पहले सिर्फ एक कैंडी की फैक्ट्री संचालित होती थी। अभी भी इस संपत्ति के एक हिस्से में यह फैक्ट्री संचालित हो रही है।

ग्रामीणों का कहना है कि वर्ष 2018- 19 में फैक्ट्री के दूसरे हिस्से में रिसॉर्ट का निर्माण कराया गया था। रिसॉर्ट शुरू हुआ मगर उसके बाद लॉकडाउन शुरू हो गया। कोविड संकट के खत्म होने के बाद इस रिसॉर्ट में कुछ आवाजाही बढ़ी।
ग्रामीणों का कहना है कि रिसॉर्ट में करीब आठ माह पूर्व एक प्रियंका नाम की युवती काम करती थी। यह युवती भी रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हो गई थी।

रिसॉर्ट स्वामी ने उक्त युवती के खिलाफ राजस्व पुलिस में रिसॉर्ट के पैसे लेकर भाग जाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था।

बताया जा रहा है कि इस युवती का भी अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। चर्चा है कि यह युक्ति भी पौड़ी गढ़वाल की रहने वाली थी।

हालांकि अंकिता हत्याकांड (Ankita Murder Case)  के प्रकाश में आने के बाद अभी तक कथित प्रियंका नाम की युवती की ओर से कोई भी व्यक्ति सामने नहीं आया है। इस रिसॉर्ट का स्वामी पुल्कित गुप्ता जो अंकिता हत्याकांड का मुख्य आरोपित है, उसके गांव वालों के साथ भी कभी अच्छे संबंध नहीं रहे। ग्रामीण इस रिसॉर्ट की ओर झांकने भी नहीं जाते थे। इस रिसार्ट में अधिकांश कर्मचारी भी गांव से बाहर के हैं।

रिसॉर्ट का विवादों से है पुराना नाता

एक और विवाद रिसॉर्ट स्वामी से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है। करीब छह वर्ष पूर्व इस कैंडी फैक्ट्री में रुद्रप्रयाग का एक युवक काम करता था। बताया जा रहा है कि छह माह तक काम करने के बाद फैक्ट्री स्वामी ने उसे सैलरी नहीं दी।

जब उसने सैलरी मांगी तो उसे फैक्ट्री में ही बंधक बना दिया गया। जिसकी सूचना ऋषिकेश निवासी समाजसेवी सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद हटवाल को मिली। तब अरविंद हटवाल ने स्थानीय ग्राम प्रधान की मदद से इस युवक को मुक्त कराया था।

अरविंद हटवाल ने बताया कि पुलकित आर्य का व्यवहार पहले से ही दबंग किस्म का रहा। उस समय भी पुलकित ने उन्हें धमकाने और दबाव में लेने की कोशिश की थी।

NIA action on PFI: देश में कैसे अपनी जड़ें मजबूत कर रहा पीएफआइ

Leave a Reply