धौलपुर में भी दिखा गुर्जर आरक्षण आंदोलन का असर

0
186

धौलपुर: गुर्जर आरक्षण आंदोलन के ऐलान के बाद जिले में भी प्रशासन व पुलिस ने जिले में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए कमर कस ली है। धौलपुर जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल और जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत के संयुक्त निर्देशन में बड़ा फैसला किया है। यहां जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन की ओर से व्यवस्थाओं को दुरस्त करने के संबंध में पुलिस लाईन सभागार में जिले के आलाधिकारियों की बैठक का आयोजन किया। बैठक में आंदोलन की संभावित रणनीति को लेकर हालातों की समीक्षा की गई।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया ‘देवभोग स्वीट्स’ का उद्घाटन

कोविड और आंदोलन को देखते हुए निगरानी

जिला कलेक्टर ने कहा कि गुर्जर आंदोलन की शुरुआत को लेकर प्रशासन व्यवस्थागत बंदोबस्त करें । सभी अधिकारी गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर पूरी तरह चौकस रहें । जिले के पूर्व में जिन स्थानों पर आगजनी तथा सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया उन जगहों पर पुख्ता इंतजाम रखें । उन्होंने कहा है कि कोरोना काल है। ऐसे में कोविड नियमों की पालना तथा ज्यादा भीड़ जमा नहीं करने के लिए व्यवस्थाएं रखना मुख्य चुनौती हैं । गुर्जर आरक्षण को लेकर जिला प्रशासन को पूरी तरह अलर्ट रहने के निर्देश दिए है ।

अतिरिक्त जाब्ता भी तैनात किये जाने के निर्देश

उन्होंने कहा कि पूर्व में गुर्जर आरक्षण आंदोलन के दौरान आन्दोलनकारियों की ओर से विभिन्न स्थानों पर आगजनी ,रेलमार्ग,रेलवे स्टेशनों , रेलवे सम्पत्ति,रोडवेज बसों इत्यादि सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था । गुर्जर आरक्षण आंदोलन में शांति व्यवस्था बनाने के लिए जिला कलेक्टर ने इसे लेकर संबंधित क्षेत्र के कार्यपालक मजिस्ट्रेट सहित अतिरिक्त जाब्ता भी तैनात किये जाने के निर्देश दिए । वहीं सभी कार्मिकों सहित उपखंड अधिकारियों को मुख्यालय नहीं छोड़ने के आदेश दिए। जिले में राज्य सुरक्षा कानून के तहत धारा 144 लागू करने के आदेश दिए हैं। साथ ही रासुका की कार्यवाही की जाएगी, ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी को टाला जा सके।

बाहर आने -जाने वाले लोंगों पर रखी जा रही है नजर

जिला पुलिस अधीक्षक ने कहा कि पुलिस के सभी अधिकारी अपने क्षेत्र में व्यस्थाएं दुरूस्त रखें। वहीं जानकारी भी मिली है कि मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद शिवचरन मीना ने कहा कि बाहर से ज्यादा लोग एक साथ आएं या बाहर जाएं , ऐसे लोगों पर नजर रखें तथा समय समय पर प्रशासन को समस्याओं से अवगत कराते रहें । अतिरिक्त जिला कलेक्टर नरेंद्र कुमार वर्मा ने कहा कि ग्रे एरिया का चिन्हीकरण करें क्योंकि इस प्रकार के क्षेत्र में कम्यूनिकेशन की संभावनाएं शून्य होती है । ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी को टाला जा सके ।

जिला कंट्रोल रूम पर दें सूचना

अधिकारियों ने बताया कि किसी भी प्रकार की आवश्यक शिकायत जिला कंट्रोल रूम 05642 220033 पर दर्ज करवाई जा सकती है । आगजनी की घटनाओं को लेकर फायरब्रिगेड को फोन किया जा सकता है। उन्होंने आगे बताया कि गुर्जर बाहुल्य गांवों को चिन्हित कर व्यवस्था दुरूस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। सोशल मीडिया पर विशेष रूप से ध्यान रखा जा रहा है। यदि आवश्यकता पड़ी तो इंटरनेट सेवाएं बंद करवाई जाएगी । मीटिंग के दौरान इस अवसर पर समस्त उपखण्ड के उपखण्डाधिकारी,वृत्ताधिकारी, तहसीलदार,समस्त थानाधिकारी और पुलिस के आलाधिकारी मौजूद रहे ।

सरदार वल्लभभाई पटेल को दी श्रद्धांजलि कई गणमान्य हस्तियों ने

LEAVE A REPLY