Shraddha Murder Case: गर्लफ्रेंड के 35 टुकड़े करते समय क्यों नहीं कांपे आफताब के हाथ?

2

नई दिल्ली। Shraddha Murder Case:  दिल्ली में हुए श्रद्धा मर्डर केस से सनसनी फैल गई है। उसके लिव-इन-पार्टनर ने छह महीने पहले हत्या के बाद आरी से शव के 35 टुकड़े कर दिए थे। उसके बाद हत्यारोपित ने रेफ्रिजरेटर खरीदकर शव के टुकड़ों को उसमें रखा था। फिर हत्यारोपित एक-एक टुकड़े को दिल्ली में अलग-अलग जगह पर फेंकता रहा। दिल्ली पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद आरोपित को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। आरोपति ने पूछताछ में हैरान कर देने वाले खुलासे किए हैं।

District Migration Program: में जनता से सीधे संवाद कर रहे CM धामी

श्रद्धा मर्डर केस (Shraddha Murder Case) पर ADCP (साउथ) अंकित चौहान ने बताया कि यहां पर एक लड़का-लड़की मुंबई से आए थे। जब लड़की के माता-पिता की लड़की से बहुत दिनों तक बात नहीं हो पाई तो लड़की के माता-पिता ने उसकी लापता रिपोर्ट मुंबई पुलिस में कराई। वहां से उनको लड़की का आखिरी ज्ञात स्थान दिल्ली पता चला।

मुंबई में शेफ की ली ट्रेनिंग

आरोपित आफताब अमीन पूनावाला ने 2 सप्ताह की मुंबई के एक होटल में शेफ की ट्रेनिंग ली थी। उसे ट्रेनिंग के दौरान मांस काटने की प्रशिक्षण मिला था। इस वजह के चलते आफताब ने बेधड़क होकर गर्लफ्रेंड के शव के दो दर्जन से ज्यादा टुकड़े कर दिए।

दोनों की मुंबई में हुई थी मुलाकात

श्रद्धा महाराष्ट्र के पालघर की रहने वाली थी। दोनों की मुंबई के एक कॉल सेंटर में मुलाकात हुई थी। यहीं से दोनों को प्यार हुआ। जिसके बाद दोनों ने शादी की योजना बनाई थी, हालांकि श्रद्धा के माता-पिता इस शादी के खिलाफ थे। इसी वजह से दोनों मुंबई से भागकर दिल्ली आ गए और छतरपुर में लिव-इन में रहने लगे। श्रद्धा उसके साथ शादी करना चाहती थी, और आफताब शादी से लगातार इनकार कर रहा था। इसी कारण दोनों में झगड़ा होता था।

ट्रेनिंग में सीखा था कैसे मांस को सरंक्षित रखा जाए

इसी बीच 18 मई को आरोपित ने श्रद्धा की गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद हत्या को छिपाने के लिए मृतका के शरीर को कई हिस्सों में काटकर रेफ्रिजरेटर में रख दिया। चूंकि लड़के ने रसोइए की पढ़ाई की थी और उसे मीट वगैरह संरक्षित करके रखने के बारे में जानकारी थी। इसी के चलते उसने मृतका के शरीर को सुरक्षित करके रख लिया।

फिर हर रात प्लास्टिक की थैली में रखकर शव के एक टुकड़े को महरौली जंगल में फेंक आता था, ताकि किसी को शक न हो। यह सिलसिला 18 दिन तक चलता रहा। वह हर रात को दो बजे शव का एक हिस्सा जाकर फेंक आता था। पुलिस को पहली बार 8 नवंबर को मामले की जानकारी मिली और पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

पिता ने दिल्ली पुलिस से की शिकायत (Shraddha Murder Case)

वहीं, श्रद्धा का सोशल मीडिया पर अपडेट आना बंद हो गया, जिसके कारण मुंबई में माता-पिता की चिंता बढ़ गई। श्रद्धा के पिता विकास मदान वाकर दिल्ली पहुंचे और बेटी को तलाशने की हर संभव कोशिश की, लेकिन कहीं कोई सुराग नहीं मिला। अंत में उन्होंने दिल्ली पुलिस से मदद मांगी। 8 नवंबर को श्रद्धा के पिता ने बेटी के अपहरण की FIR दर्ज कराई थी। उन्होंने पुलिस को आफताब के बारे में भी बताया। गुप्त सूचना के आधार पर आफताब को पुलिस ने गिरफ्तार और पूछताछ में उसने सारा सच बता दिया।

G20 Summit 2022: जी20 सम्मेलन में शामिल होने के लिए पीएम इंडोनेशिया के बाली हुए रवाना

Leave a Reply