तमिलनाडु में कोरोना वायरस का पता लगाने के लिए एक परीक्षण सुविधा का अनावरण

0
441

चेन्नई। कोरोना वायरस का पता लगाने के लिए एक परीक्षण सुविधा का रविवार को एक प्रमुख राज्य द्वारा संचालित संस्थान में अनावरण किया गया। तमिलनाडु के 800 लोगों का इसके अनर्तगत 800 से ज्यादा लोगों का निरीक्षण किया गया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सी विजयभास्कर द्वारा किंग इंस्टीट्यूट ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन में परीक्षण सुविधा का उद्घाटन किया गया जिन्होंने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों से संस्थान में पांच रक्त के नमूने प्राप्त हुए हैं।

इसके अलावा, चार नमूनों को पहले से ही नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे में निदान के लिए भेज दिया गया था, उन्होंने कहा, नमूनों की प्राप्ति के बाद परिणाम 48 घंटे में उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा, ‘उनमें से सभी (जिनके रक्त के नमूने एकत्र किए गए हैं) नैदानिक रूप से सामान्य हैं (वर्तमान में लक्षण प्रदर्शित नहीं करते हैं)’

चीन से फैले कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम

चीन से फैले कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम, निगरानी और एहतियाती उपायों के बारे में यहां एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करने के बाद, मंत्री ने कहा कि राज्य में 799 लोग घर से बाहर थे और सार्वजनिक स्वास्थ्य निदेशालय उनकी निगरानी कर रहा था। उन्होंने बताया कि 799 में से 646 ने चीन की यात्रा की और 153 अन्य लोगों ने चीन के नजदीक के देशों की यात्रा की थी। इसके अलावा 12 लोगों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

बता दें कि अब तक राज्य में चेन्नई, तिरुचिरापल्ली, मदुरै और कोयम्बटूर हवाई अड्डों पर 5,543 लोगों पर थर्मल स्क्रीनिंग की गई थी और वे सभी सामान्य थे। बताया गया कि वायरस का कोई सकारात्मक मामला नहीं मिला है जिससे चीन में 300 से अधिक लोगों के जान जा चुकी है। उन्होंने कहा कि राज्य को वायरस के परीक्षण, रोकथाम और निगरानी सहित सभी पहलुओं के लिए केंद्र सरकार के प्रोटोकॉल का पालन किया गया था। केंद्र ने कहा है कि वुहान से यात्रा कर रहे यात्रियों के रक्त के नमूनों को एकत्र किया जाना चाहिए, भले ही उनमें लक्षणों को खुलासा हुआ हो या ना।

LEAVE A REPLY