मां के साथ प्यार करते करते बेटी पर आया दिल, गला रेतकर की हत्या

0
355

शिमला। सामाजिक रिश्तों में आ रही गिरावट का ही एक जीता जागता प्रमाण हिमाचल प्रदेश में देखने को मिला जब एक मां के प्रेमी ने ही नाबालिग की गला रेत कर हत्या कर दी। हत्या करने वाले आरोपी शख्स को पुलिस ने 16 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक मृत छात्रा शिमला जिला की चायल क्षेत्र की रहने वाली बताई जा ही है। युवती अपनी मां के साथ ओच्छघाट में किराए के कमरे में रहतीं थी और उसकी मां ओच्छघाट के पास ही एक शिक्षण संस्थान में नौकरी करतीं है।

पुलिस ने बताया कि छात्रा की मां यहां अपने पति से अलग रहकर अपनी बेटी का पालन-पोषण कर रही थी जहां उसका एक युवक के संग प्रेम प्रसंग था।

उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की।

पुलिस के मुताबिक आरोपी का दिल बीते कुछ महीनों से महिला की बेटी पर भी आ गया। बीच में उसने कई बार कोशिश की,लेकिन नाबालिगा उसके हत्थे नहीं चढ़ी। बुधवार को आरोपी ने छात्रा को घर में अकेले पाकर उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की।

छात्रा ने जब इसका विरोध तो आरोपी ने उसका गला काटकर हत्या कर फरार हो गया।
जब छात्रा के कमरे से खून बाहर बहता हुआ आया तो वहां से गुजर रहे पड़ोसी की नजर उस पर पड़ी। उसने तुरंत पंचायत प्रतिनिधि को बुलाया और जब उन्होंने कमरे में जाकर देखा तो उनकी पैरों के नीचे से जमीन निकल गई।

क्योंकि जिस कमरे में छात्रा की हत्या हुई उस कमरे में खून ही खून फैला हुआ था। उसके बाद पुलिस ने आरोपी के ठिकानों पर दबिश दी और आज उसे आज दबोच लिया गया।

वही एक अन्य घटना में सगे बेटे ने अपनी माँ की ऑंखें फोड़ डाली 

कलयुगी बेटे की करतूत कैची से हमला कर मां की आंखे फोड़ दी

वाराणसी। कहते हैं बुढ़ापे में बेटा ही मां-बाप का सहारा होता है तो वहीं मां अपने बेटे की आखों से ही दुनिया भी देखती हैं। लेकिन वाराणसी के इस कलयुगी बेटे की करतूत आप के रोंगटे खड़े कर देगी।

जिस मां ने नौ महीने तक अपनी कोख में इस पला वो अपनी ही मां का सबसे बड़ा दुश्मन बन गया और उसके दोनों आखों में कैची से हमला कर उसकी आंखे फोड़ दी। यही नहीं अपने इस घिनौनी करतूत को अंजाम देने के लिए इस बेटे ने बकायदा कमरे का दरवाजा बंद कर अपनी मां पर हमला किया।

जिसके बाद किसी तरह आंखे गवां चुकी आरोपी की मां अपने ही बेटे के कहर से बचते हुए कमरा खोलकर बहार आई। तब जाकर आसपास के लोगों को इस घटना की जानकारी हुई। वहीं इस शर्मसार घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी बेटा खुद ही पुलिस चौकी पहुंचा और अपना गुनाह कबूल किया।

विवाद के चलते मां संग किया ये अत्याचार

शहर के सारनाथ थाना क्षेत्र के आशापुर कॉलोनी में सुमन गुप्ता अपने दो बेटे चंदन और सीमांत के साथ रहती हैं और इनके पति श्याम नारायण गुप्ता भारतीय सेना में हैं जो इस समय जम्मू में तैनात हैं।

सुबह जब आरोपी चंदन का छोटा भाई सीमांत कोचिंग पढ़ने गया था तभी उसके बड़े भाई चंदन और मां सुमन के बीच किसी बात को लेकर विवाद शुरू हो गया।

ये विवाद इतना बढ़ गया कि चंजन ने अपना आपा खो दिया और कमरे का दरवाजा बंद कर अपनी ही मां पर हमला कर बैठा और अपना गुनाह कबूल करने के लिए पुलिस के पास चला गया।

इस घटना के बाद आसपास के लोगों ने आरोपी की मां सुमन को वाराणसी के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया जहां डाक्टरों ने उसकी हालत गंभीर बताई है।

अक्सर होता था विवाद

वहीं इस घटना के बाद स्थानिय लोगों को इस घटना की जानकारी सुमन के घर से बहार आने के बाद हुई। कॉलोनी के एक निवासी सुरेश ने बताया कि सुमन और चंदन में अक्सर विवाद होता था जिसके कारण भाई बहुत दिनों तक घर छोड़कर किराए पर कमरा लेकर ही रहता था।

सुरेश ने ये भी बताया कि चंदन मानसिक रूप से बीमार है और हमेश ही डिप्रेशन में रहता हैं।

आरोपी ने लगाया मां-बाप पर पत्नी को पीटने का आरोप

मां की आंखें फोड़ने वाले चंदन का आरोप है कि ‘मेरे पिता श्याम नारायण और मां सुमन मेरी बीवी को अक्सर पीटते हैं। वो नहीं चाहते हम दोनों आपस में प्यार करें। उसको अक्सर मां काम में फंसाकर रखती है, या तो कमरे में अकेले रहने को बोलती है।

आखिर वो मेरी पत्नी है, शादी क्यों होती है। कमरे में आते ही आवाज देना शुरू कर देती है, नहीं जाने पर पत्नी को मां पीटने लगती है। क्या मैं पत्नी से प्यार न करूं।’ वहीं एसओ अखिलेश मिश्रा ने बताया कि चंदन की पत्नी का भी सास-ससुर से विवाद था।

चंदन ने दर्दनाक तरीके से अपनी मां की आंखों पर कैंची से वार किया है। पहले उन्हें दीन दयाल हॉस्पिटल भेजा गया था। कंडीशन क्रिटिकल होने की वजह से डॉक्टरों ने उन्हें बीएचयू ट्रॉमा रेफर किया है। मामले में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY