Lakhimpur Kheri News : लखीमपुर में पीड़ित परिवारों से मिलेंगे राहुल और प्रियंका

0
65

नई दिल्ली। Lakhimpur Kheri News : उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा पर जबरदस्त राजनीति हो रही है। कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल इस मामले में केंद्र और राज्य सरकार की घेराबंदी में जुट गए हैं। पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए लखनऊ जा रहे राहुल गांधी को यूपी सरकार ने लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत दे दी है। राज्य सरकार ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी के अलावा तान अन्य लोगों को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दी है।इससे पहले लखीमपुर खीरी जाने कोशिश कर रही प्रियंका गांधी को सीतापुर में हिरासत में रखा गया है।

National Security Act उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश में किया लागू

कांग्रेस नेता राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी लखीमपुर खीरी हिंसा में जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों से मिलने के लिए हवाई मार्ग से उत्तर प्रदेश के लखनऊ के लिए रवाना हुए।

छत्तीसगढ़ ने कहा कि धारा 144 में 5 से अधिक लोग इकट्ठे नहीं हो सकते

उससे कम लोग जा सकते हैं। कल भी मुझे गलत तरीके से रोका गया था। हमलोग पीड़ित परिवार तक पहुंचने का प्रयास करेंगे। आखिर ऐसी क्या बात है जिसे राज्य सरकार छुपाना चाहती है? ऐसा क्या है जिससे किसी को बचाना चाहती है।

Lakhimpur Kheri News : लखीमपुर खीरी ना जाने देने पर कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा सरकार बाकी राजनीतिक दलों को जाने दे रही है। तृणमूल कांग्रेस के 5 सांसद वहां (लखीमपुर खीरी) गए, भीम आर्मी के हमारे मित्र दर्जनों लोगों के साथ वहां गए तो कांग्रेस के नेता क्यों नहीं जा सकते? हमारा क्या अपराध है?

अरविंद केजरीवाल ने सवाल किया कि अभी तक हत्यारों को गिरफ्तार तक नहीं किया गया

लखीमपुर खीरी घटना पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सवाल किया कि अभी तक हत्यारों को गिरफ्तार तक नहीं किया गया है। आज एक तरफ सरकार आजादी का अमृत महोत्सव मना रही है और दूसरी तरफ विपक्ष के नेता जब मृतक के परिवारों से मिलने जा रहे हैं तो उन्हें जेल में डाला जा रहा है ये कौन-सी आजादी का जश्न है।

विपक्षी दलों द्वारा लखीमपुर खीरी जाने पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि लखीमपुर आपको जाना है तो कुछ दिन बाद चले जाइएगा। आप दुखद परिवारों से मिलें इसमें कोई आपत्ती नहीं है, लेकिन माहौल बिगाड़ने के लिए ईजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि स्थिति नियंत्रण हो जाए तो उनको जाने दिया जाएगा।

लखीमपुर खीरी घटना पर एडीजी एसएन सबत का कहना है कि इस मामले में कार्रवाई चल रही है। हमारे पास बहुत सारी तस्वीरें हैं और हमने मीडिया से भी कहा है कि अगर किसी के पास वास्तविक तस्वीर है तो वो हमें उपलब्ध कराएं ताकि वो तस्वीरें हमें जांच में काम आए।

Uttarakhand Lockdown Update: उत्तराखंड में 19 अक्टूबर तक बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां

Leave a Reply