फ्रांस में टीचर की गला काटकर हत्‍या के बाद अब इसी तरह एक और हत्‍या का मामला आया सामने

0
333

पेरिस: पैगंबर कार्टून विवाद में फ्रांस में टीचर की गला काटकर हत्‍या के बाद अब इसी तरह एक और हत्‍या का मामला सामने आया है। फ्रांस के एक चर्च में एक हमलावर ने एक महिला का गला काट दिया और दो अन्‍य लोगों की चाकू मारकर निर्मम तरीके से हत्‍या कर दी। यह घटना फ्रांस के नाइस शहर में हुई है। शहर के मेयर ने इस खौफनाक घटना को आतंकवाद करार दिया है।

उत्तराखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

मेयर क्रिस्चियन इस्‍तोर्सी ने कहा कि

चाकू से यह हमला शहर के नोट्रे डेम चर्च में हुई है। पुलिस ने हमलावर को अरेस्‍ट कर लिया है। पुलिस ने बताया कि तीन लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है। कई अन्‍य घायल हो गए हैं। एक पुलिस सूत्र ने कहा कि महिला का गला काटा गया है। फ्रांस के एक नेता ने भी इस बात की पुष्टि की है कि महिला का गला काटा गया है।

हथियारबंद जवानों ने चर्च को घेर लिया

फ्रांस के आतंकवाद निरोधक विभाग ने कहा कि उसे इस हमले के जांच की ज‍िम्‍मेदारी दी गई है। घटनास्‍थल पर मौजूद पत्रकारों का कहना है कि हथियारबंद जवानों ने चर्च को घेर लिया है। मौके पर एंबुलेंस और फायर सर्विस की गाड़‍ियां मौजूद हैं। यह हमला ऐसे समय पर हुआ है जब कुछ समय पहले ही फ्रांसीसी टीचर की पैगंबर का कार्टून द‍िखाने पर हत्‍या कर दी गई थी।

यह अभी तत्‍काल स्‍पष्‍ट नहीं हो पाया है कि चर्च में चाकू हमला करके लोगों की हत्‍या करने के पीछे मकसद क्‍या था या इसका पैगंबर के कार्टून से कोई मतलब है। इससे पहले फ्रांस में पैगंबर का कार्टून द‍िखाने पर एक टीचर की गला काटकर हत्‍या कर दी गई थी। इस घटना के बाद फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने अभिव्‍यक्ति की आजादी और धर्म का उपहास उड़ाने के अध‍िकार का जमकर समर्थन किया है। हालांकि इसके बाद से वह मुस्लिम देशों की आलोचना का शिकार हो गए हैं।

Charlie Hebdo ने तुर्की के राष्‍ट्रपति को दिखाया ‘अधनंगा’, ईरान में मैक्रों बने ‘राक्षस’

ईरान के राष्‍ट्रपति हसन रुहानी ने फ्रांस को चेतावनी दी
इस बीच ईरान के राष्‍ट्रपति हसन रुहानी ने फ्रांस को चेतावनी दी है कि पैगंबर की आलोचना करने से ‘हिंसा और रक्‍तपात’ को बढ़ावा मिलेगा। रुहानी ने कहा कि पश्चिमी देशों को यह समझना होगा कि…पैगंबर की आलोचना करना सभी मुस्लिमों, सभी पैगंबरों और सभी मानवीय मूल्‍यों की आलोचना करना है। पैगंबर की आलोचना करने से कुछ भी हासिल नहीं होगा। यह अनैतिक है। यह हिंसा को बढ़ावा दे रहा है।’

मुंगेर में मूर्ति विजर्सन के बाद बवाल के खिलाफ फिर सड़क पर उतरे लोग

 

LEAVE A REPLY