Aftab Shraddha Case: पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए अस्पताल पहुंचा आफताब

1

नई दिल्ली। Aftab Shraddha Case:  श्रद्धा वालकर हत्याकांड का आरोपित आफताब अमीन पूनावाला दिल्ली के रोहिणी स्थित फोरेंसिक साइंस लैबोरेट्री में पालीग्राफ टेस्ट के लिए पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि थोड़ी देर बाद रोहिणी स्थित एफएसएल में आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट होगा। वहीं, दिल्ली पुलिस की कई टीमें राजधानी के अलावा, देश के कई राज्यों में सबूतों को तलाशने का काम कर रही हैं।

Chintan shivir की एक सप्ताह में प्रत्येक अधिकारी को देनी होगी रिपोर्टः CS

पांच मनोविज्ञानियों की टीम करेगी टेस्ट

जानकारी के अनुसार, चार से पांच मनोविज्ञानियों की टीम पालीग्राफ टेस्ट के दौरान आफताब से सवाल पूछेगी।यह सवाल पुलिस की ओर से मनोविज्ञानियों के दिए जाएंगे। मनोविज्ञानी सवालों के दौरान ग्राफ बढ़ने, घटने पर मुख्य सवाल के इर्द-गिर्ध के सवाल भी पूछेंगे। उदाहरण के लिए। पहले उसे रिलेक्स करने के लिए नाम, पिता का नाम, स्कूल आदि पूछा जाएगा। जब वह सही सवालों के जवाब देगा तो ग्राफ सामान्य रहेगा, जब आरोपित से हत्या का कारण आदि के सवाल पूछे जाएंगे तो अगर उसने झूठ बोला तो ग्राफ बढ़ने घटने लगेगा। मनोविज्ञानी फिर उसी के हिसाब से आगे के सवाल पूछेगे। यह सवाल उनके अनुभव के हिसाब से होंगे।

वहीं, इससे पहले बुधवार को रोहिणी स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में श्रद्धा वालकर हत्याकांड (Aftab Shraddha Case) का आरोपित आफताब पालीग्राफ टेस्ट के लिए नहीं पहुंचा। स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से पुलिस उसे प्रयोगशाला में नहीं लेकर आई। उधर, एफएसएल टीम पालीग्राफ टेस्ट के लिए पूरी तरह तैयार थी और दिनभर उसके आने का इंतजार करती रही।

इसके लिए कमरे को भी तैयार कर लिया था। बाकायदा कमरे में टेबल भी रख दी गई थी। मनोविज्ञानियों की टीम भी पहुंच गई थी, लेकिन बाद में पता चला कि आफताब का स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से उसे यहां नहीं लाया जा रहा है। इसके बाद देर शाम को मनोविज्ञानियों की टीम ने घर का रुख किया। आफताब का मंगलवार को पालीग्राफ टेस्ट के लिए ट्रायल हुआ था। ट्रायल के दौरान कुछ सवाल भी पूछे गए थे।

टेस्ट के लिए पूरी तरह से आफताब का ठीक होना जरूरी

बुधवार सुबह आफताब को टेस्ट के लिए रोहिणी लेकर आना था। बुधवार को पालीग्राफ टेस्ट के लिए ले जाने से पहले आफताब की मेडिकल जांच करवाई गई। इस दौरान उसका बीपी सही नहीं पाया गया। बीपी सही न आने की वजह से डाक्टरों ने पालीग्राफ टेस्ट के लिए मना कर दिया। पालीग्राफ टेस्ट के लिए आफताब का पूरी तरह से ठीक होना जरूरी है।

नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार कर लिए जाएंगे सवाल

पालीग्राफ टेस्ट में जिन सवालों के दौरान ग्राफ ऊपर नीचे होगा। उन सवालों को नोट कर लिया जाएगा। इन्हीं सवालों को या फिर इन जैसे सवालों को ही नार्को टेस्ट के दौरान फिर से पूछा जाएगा। जैसे हत्या में इस्तेमाल हथियार कहां है आदि। पालीग्राफ टेस्ट की रिपोर्ट साथ के साथ आ जाती है। यह रिपोर्ट आइओ को दी जाती है। जिसे बाद में कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा। इस टेस्ट के बाद कभी भी पुलिस आफताब को नार्को टेस्ट के लिए ले जा सकती है।

National Junior Athletics Championship : के विजेताओं से CM धामी ने की भेंट

Leave a Reply