Delhi Trilokpuri murder: आरोपी महिला का कबूलनामा- अंजन मेरे बच्चों पर गलत नीयत रखता था

48

नई दिल्ली। Delhi Trilokpuri murder:  दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में अंजन दास नाम के शख्स की हत्या ने देशभर को एक बार फिर सकते में डाल दिया है। अंजन की पत्नी पूनम और सौतेले बेटे ने छह महीने पहले मई में उसकी हत्या कर दी और फिर शव के टुकड़े-टुकड़ेकर फेंक दिए। अब इस मामले में मां और बेटा, दोनों पुलिस की हिरासत में है।

Bomb Threat : दिल्ली के एक नामी स्कूल में मिली बम की सूचना

इस दौरान आरोपित महिला का कबूलनामा सामने आया है। पूनम ने कैमरे के सामने मीडिया को बताया कि उसके बेटे ने पति की हत्या की। अंजन की पत्नी पूनम ने बताया कि उसके पति की नीयत ठीक नहीं थी। वह उसके बच्चों पर बुरी नजर रखता था। इसलिए बेटे दीपक ने सौतेले पिता की जान ले ली। वहीं, महिला ने खुद को बेकसूर बताया है।

रामलीला मैदान के झाड़ियों में शव के कई टुकड़े मिले

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने सोमवार को अंजन दास हत्याकांड (Delhi Trilokpuri murder) का खुलासा किया है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, 5 जून 2022 को पांडव नगर थाना को रामलीला मैदान में मानव शरीर के टुकड़े मिलने की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंचे अधिकारियों को मैदान के सुनसान झाड़ियों के किनारे एक प्लास्टिक की थैली और मानव अंग पड़े मिले। फिर एक व्यक्ति के पैर का निचला हिस्सा सड़ी-गली हालत में पड़ा मिला। इसके साथ ही एक सफेद पॉलिथीन में मानव शरीर का एक और अंग दिखाई मिला।

सीसीटीवी से पुलिस को मिले अहम सुराग

पिछले 6 महीने से पुलिस इस मामले की गुत्थी सुलझाने की कोशिश में थी। शव के टुकड़ों की जांच के दौरान डॉक्टर ने बताया कि मृतक एक वयस्क पुरुष था। वहीं, आसपास के क्षेत्रों के लगे सीसीटीवी फुटेज की दोबारा जांच के दौरान पुलिस के हाथ अहम सुराग लग गई। सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि 31 मई और 1 जुलाई की दरमियानी रात को रामलीला मैदान में सुनसान जगह पर एक महिला और एक युवक प्लास्टिक बैग में कुछ फेंकने आए थे।

लापता व्यक्तियों के रिकॉर्ड ने खोले राज

इसके अलावा, 1 जुलाई को दिन के समय भी दोनों उस जगह के पास फिर देखे गए, जहां से पुलिस को मृतक के शरीर के अंगों से भरा प्लास्टिक बैग मिला था। इसके बाद दिल्ली और यूपी के आसपास के जिलों के सभी लापता व्यक्तियों के रिकॉर्ड की जांच की गई तो पता चला कि अंजन दास नाम का शख्स पिछले 5-6 महीनों से लापता था और उसके परिवार के सदस्यों ने न तो पुलिस को इसकी सूचना दी और न ही उसे खोजने का कोई प्रयास किया। इसके बाद पुलिस ने अंजन दास के त्रिलोकपुरी स्थित घर का पता लगाया और उसकी पत्नी पूनम देवी और सौतेले बेटे दीपक से पूछताछ की, जिसके बाद मामले से पर्दा उठा।

सौतेले बेटे की पत्नी पर अंजन की थी बुरी नजर

सोमवार को हत्याकांड का खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने बताया कि त्रिलोकपुरी में रहने वाला अंजन दास लिफ्ट ऑपरेटर का काम करता था। वह किराए के मकान में पूनम और उसके बेटे दीपक के साथ रहता था। दीपक अंजन दास का सौतेला पुत्र था। पूनम का सुखदेव नाम के शख्स से विवाह हुआ, जो शादी के बाद दिल्ली आ गया। पूनम सुखदेव को ढूंढने दिल्ली आई तो उसे कल्लू मिला जिससे पूनम को तीन बच्चे हुए। तीन बच्चों में से दीपक एक है।

फ्रिज में तीन दिन तक शव को रखा

दिल्ली क्राइम ब्रांच विशेष पुलिस आयुक्त रविंद्र सिंह यादव ने बताया कि लीवर फेल होने से कल्लू की मौत हो गई, जिसके बाद पूनम अंजन के साथ रहने लगी। इधर, अंजन का बिहार में परिवार है और उसके आठ बच्चे हैं। इस बात से पूनम बेखबर थी। वहीं, सौतेले बेटे दीपक की पत्नी पर अंजन की बुरी नजर थी। साथ ही वह इसके पैसे भी लेता था। इसी के चलते दीपक ने अंजन की हत्या की योजना बनाई। फिर पूनम और सौतेले बेटे दीपक ने अंजन की हत्या कर दी औऱ शव को तीन दिन तक फ्रिज में रखा। फिर शव के टुकड़ों को एक-एक कर फेंक दिया।

CM dhami visit Dhanaulti: करोड़ों की योजनाओं का किया लोकार्पण

Leave a Reply