प्रधानमंत्री ने पुडुचेरी में विभिन्न परियोजनाओं का किया शिलान्यास

0
182

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ने पुडुचेरी में विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस दौरान पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलसाई सुंदरराजन भी मौजूद रहीं। प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान पुडुचेरी विकास के लिए हर संभव समर्थन का आश्वासन दिया और उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि हमारे औपनिवेशिक शासकों की बांटो और राज करो की ​नीति थी, कांग्रेस की बांटो, झूठ बोलो और राज करो की नीति है। वो झूठ बोलने में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेता हैं। उन्होंने मत्स्यपालन मंत्रालय वाले बयान को लेकर राहुल गांधी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता यहां आकर कहते हैं कि हम मछुआरों के लिए मत्स्यपालन मंत्रालय बनाएंगे, मैं हैरान था। सच ये है कि मौजूदा एनडीए सरकार ने 2019 में मछुआरों के लिए मंत्रालय बनाया था।

सीएम हेल्पलाइन पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी होंगे पुरस्कृत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि

यदि आप मुझे पुडुचेरी के लिए अपना घोषणा पत्र साझा करने के लिए कहेंगे तो मैं कहूंगा कि हम पुडुचेरी को बैस्ट बनाना चाहते हैं। कहा कि एनडीए पुडुचेरी को बेस्ट बनाना चाहता है। बेस्ट से मेरा मतलब है – बी फॉर बिजनेस हब, ई फार एजुकेशन हब। एस फॉर स्प्रिचुअल हब और टी फार टूरिज्म हब। कांग्रेस की हाई कमान सरकार ने सहकारी समितियों का प्रबंधन ठीक से नहीं किया। मैं गुजरात से आता हूं, जहां सहकारी आंदोलन ने कई लोगों का जीवन बदल दिया है। एनडीए सरकार पुडुचेरी में सहकारी क्षेत्र को जीवंत बनाने के लिए काम करेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2016 में पुडुचेरी के लोगों ने बहुत उम्मीद के साथ कांग्रेस के लिए वोट किया। उन्हें लगा कि सरकार उनकी समस्याओं का समाधान करेगी। पांच साल बाद लोग निराश हैं। उनके सपने और उम्मीदें टूट चुकी हैं। कांग्रेस दूसरों को लोकतंत्र विरोधी कहने का कोई मौका नहीं छोड़ती, उन्हें खुद को शीशे में देखने की जरूरत है। उन्होंने हर संभव तरह से लोकतंत्र का अपमान किया। पुडुचेरी में उन्होंने पंचायत के चुनाव कराने से मना कर दिया। कांग्रेस सरकार ने पुडुचेरी में हर सेक्टर को नुकसान पहुंचाया। कांग्रेस लोगों के लिए काम करने में विश्वास नहीं करती है, मुझे समझ नहीं आता कि कांग्रेस क्यों नहीं चाहती कि कोई दूसरा लोगों के लिए काम करे।

पूरे भारत में लोग कांग्रेस को खारिज कर रहे हैं

प्रधानमंत्री मोंदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए आगे कहा कि 2016 में, पुडुचेरी को एक ऐसी सरकार मिली जो दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान की सेवा में व्यस्त थी। उनकी प्राथमिकताएं अलग थीं। पूरे भारत में लोग कांग्रेस को खारिज कर रहे हैं। संसद में उनकी सीटें इतिहास में अब तक सबसे कम हैं। सामंती राजनीति, वंशवाद की राजनीति, संरक्षण की राजनीति की कांग्रेस संस्कृति समाप्त हो रही है।

हाल ही में कांग्रेस नीत सरकार गिरी

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी के दौरे पर ऐसे समय आए हैं, जब हाल में यहां काबिज कांग्रेस नीत सरकार गिर गई है। केंद्रीय कैबिनेट ने बुधवार को वहां राष्ट्रपति शासन लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी के इस्तीफे के बाद किसी भी पार्टी ने सरकार बनाने का दावा नहीं किया। इसके बाद उपराज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की, जिसे केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। बता दें कि यहां इस साल चुनाव भी होने हैं।

राष्ट्रपति की सहमति मिलने के बाद विधानसभा भंग कर दी जाएगी

केंद्रीय कैबिनेट से राष्ट्रपति शासन लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है। अब राष्ट्रपति की सहमति मिलने के बाद वहां विधानसभा भंग कर दी जाएगी और प्रशासनिक कामकाज के लिए जल्द ही जरूरी कदम उठाए जाएंगे। चुनाव आयोग द्वारा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही वहां चुनावी आचार संहिता भी लागू हो जाएगी। अपने ही विधायकों के इस्तीफे कारण नारायणसामी सरकार अल्पमत में आ गई थी। सोमवार को विधानसभा में विश्वास मत प्रस्ताव पर वोटिंग से पहले ही नारायणसामी ने अपनी कैबिनेट का इस्तीफा सौंप दिया।

हेल्थकेयर सेक्टर आने वाले समय में मुख्य भूमिका निभाएगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा कि हेल्थकेयर सेक्टर आने वाले समय में मुख्य भूमिका निभाएगा। जो देश स्वास्थ्य में निवेश करेंगे वो चमकेंगे। इस साल के बजट में स्वास्थ्य सेक्टर को बड़ी बढ़त मिली है। उन्होंने यह भी कहा कि सभी को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के उद्देश्य के अनुरूप, वे JIPMER में ब्लड सेंटर का उद्घाटन कर रहा हूं। उन्होंने यह भी कहा कि अपनी विकास की जरूरतों को पूरा करने के​ लिए भारत को विश्वस्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत है। एनएच 45-ए की 4 लेन की आधारशिला रखी गई है। इससे कनेक्टिविटी बढ़ेगी और आर्थिक गतिविधियों की गति बढ़ेगी।

सडक परियोजना के लिए 48 करोड रूपए की स्वीकृति

LEAVE A REPLY