गृहमंत्री अमित शाह ने किसानों को बुलाया मिलने

0
267

नई दिल्ली: कृषि कानून के विरोध में किसानों के जारी प्रदर्शन के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों को बातचीत के लिए बुलाया है। बता दें कि बुधवार को किसान और सरकार के बीच छठवें दौर की बातचीत होनी है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि वे फिलहाल सिंघु बॉर्डर जा रहे हैं जहां से वह गृह मंत्री से मिलने जाएंगे।

कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार भारत में लगातार मंद

कल की वार्ता के लिए तैयार प्रस्ताव बताएगी सरकार

गृहमंत्री अमित शाह आज शाह से मिलने 13 किसान नेता जाएंगे। ये 5 विभिन्न राज्यों के और 8 उन किसान संगठनों से जुड़े हैं जिन्होंने आंदोलन शुरू किया था। पहले 5 लोगों को बुलाया था, बाद में 13 लोगों पर बात तय हुई। गृह मंत्री ने अनौपचारिक बातचीत के लिए बुलाया है। बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय किसान संघों को सरकार द्वारा कल की बैठक के लिए तैयार किए गए प्रस्ताव की जानकारी देगा।

उधर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की। वहीं अपने पुरानी सहयोगी अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन पर बात की और उन्हें जन्मदिन की बधाई दी। बता दें कि बीते दिनों किसानों के समर्थन में प्रकाश सिंह बादल ने अपना पद्म विभूषण वापस करने की पेशकश की थी।

‘शाम 7 बजे हमारी गृहमंत्री के साथ बैठक’

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया, ‘आज हमारी गृह मंत्री के साथ शाम 7 बजे बैठक है। हम अब सिंघु बॉर्डर जा रहे हैं और वहां से गृह मंत्री से मिलने जाएंगे।’ बता दें कि किसान और सरकार के बीच 5 वें राउंड की बातचीत फेल होने के बाद 9 दिसंबर को अगले राउंड की वार्ता तय की गई है। इससे पहले आज यानी 8 दिसंबर को किसानों ने भारत बंद बुलाया था जिसे कांग्रेस, एनसीपी और अकाली दल समेत कई विपक्षी दलों ने समर्थन दिया था।

केंद्र और किसानों के बीच बुधवार को होनी है बैठक

बताया जा रहा है कि किसानों की बढ़ती नाराजगी और विपक्ष के हमलावर होने के चलते सरकार अब जल्द से जल्द किसानों की समस्या का निपटारा करना चाहती है। इससे पहले नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच पांचवें दौर की बातचीत बेनतीजा खत्म हो गई थी।

कानून वापस लेने की मांग पर अड़े किसान

किसानों ने केंद्र सरकार से दो टूक कह दिया था कि उनके पास राशन-पानी की कोई कमी नहीं है, इसलिए वो अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर डटे रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा था कि वो प्रदर्शन के दौरान हिंसा का रास्ता अख्तियार नहीं करेंगे, लेकिन मांगें माने जाने तक संघर्ष जारी रहेगा।

यूपी में भारत बंद की लाइव अपडेट्स पढ़िए यहां

बता दें कि पांचवें दौर की बातचीत में केंद्र सरकार ने कृषि कानूनों में संशोधन का प्रस्ताव दिया था लेकिन किसान नेताओं ने इसे सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने साफ कहा कि सरकार तीनों कानून वापस ले नहीं तो वे प्रदर्शन जारी रखेंगे। इसी के साथ किसानों ने आज भारत बंद बुलाया था।

किसानों का भारत बंद का देशभर में रहा असर

कृषि कानून के विरोध में किसान संगठनों के भारत बंद का देश के कई हिस्सों में असर देखने को मिला। किसानों ने आज दिल्ली-गाजियाबाद का मुख्य रास्ता एनएच 24 भी जाम कर दिया है। इससे दिल्ली से यूपी आने-जाने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। किसानों का कहना है कि वे पिछले 13 दिनों से बैठे हैं लेकिन सरकार उनकी बात सुनने को राजी नहीं है।

खट्टर ने नरेंद्र सिंह तोमर से की मुलाकात

किसान आंदोलन के समर्थन में देश की कई बड़ी पार्टियां भी साथ खड़ी दिखाई दीं। इस बीच कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मिलने के लिए हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर पहुंचे। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच किसान आंदोलन को लेकर बातचीत हुई। वहीं किसान आंदोलन को लेकर हरियाणा सरकार में जारी खिटपिट पर भी चर्चा हुई। दरअसल हरियाणा सरकार में सहयोगी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) भी अब कृषि कानूनों को संशोधित करने की आवाज उठा रही है जिससे बीजेपी नाराज है।

पीएम मोदी ने बादल को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

किसान आंदोलन के बीच में पीएम नरेंद्र मोदी ने अकाली दल के वरिष्ठ नेता प्रकाश सिंह बादल को फोन पर जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं। बता दें कि अकाली दल ने कृषि कानूनों के विरोध में एनडीए से नाता तोड़ लिया था। केंद्र सरकार में अकाली दल कोटे से मंत्री रहीं हरसिमरत कौर ने किसान कानून मुद्दे पर इस्‍तीफा दे दिया था।. यही नहीं, प्रकाश सिंह बादल भी पिछले दिनोम इन कानूनों के विरोध में पद्म विभूषण सम्मान लौटाने की घोषणा की थी।

नरेंद्र तोमर से मिलने पहुंचे मनोहर लाल खट्टर

LEAVE A REPLY