एथलीट पद्मश्री‍ मिल्‍खा सिंह का शुक्रवार देर रात निधन

0
240

चंडीगढ़। उड़न सिख के नाम से मशहूर महान एथलीट पद्मश्री‍ मिल्‍खा सिंह का शुक्रवार देर रात निधन हो गया। उन्‍होंने रात 11:30 बजे अंतिम सांस ली। मिल्खा सिंह कोरोना वायरस से तो उबर चुके थे लेकिन पोस्ट कोविड साइडइफेक्ट्स से वह नहीं उबर सके। उन्‍होंने चंडीगढ़ पीजीआइ में अंतिम सांस ली। वह 91 साल के थे। पांच नि पहले ही उनकी पत्नी निर्मल मिल्‍खा सिंह का भी पोस्‍ट कोविड से निधन हुआ था।

मुख्यमंत्री ने की नैनीताल व उधमसिंह नगर की घोषणाओं की समीक्षा

मिल्‍खा सिंह के निधन पर राजनेताओं सहित खेल और सामाजिक क्षेत्रों से जुड़े लाेगों ने जताया शोक

मिल्‍खा सिंह के निधन पर राजनेताओं सहित खेल और सामाजिक क्षेत्रों से जुड़े लाेगों ने शोक जताया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह, हरियाणा के गृह एवं स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज, कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने शोक जताया है और श्रद्धांज‍लि दी है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिल्खा सिंह के निधन पर पंजाब में एक दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है।

पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि

मिल्‍खा सिंह जी के निधन की खबर सुनकर बहुत दुख हुआ। यह एक युग का अंत है और देश व पंजाब के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उनके परिवार और मिल्‍खा सिंह के लाखों फैन के लिए मेरी संवेदना है। महान फ्लाईंग सिख को कई पीढि़यों तक याद किए जाएंगे।

हरियाणा के पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा सहित अन्‍य नेताओं ने भी उड़न सिख मिल्‍खा सिंह के निधन पर शोक जताया है। पंजाब के विभिन्‍न दलों के नेताओं, दिग्‍गज खिलाडि़यों ने भी मिल्‍खा सिंह के निधन पर शाेक जताया है और उनको भावभीनी श्रद्धांजलि दी है।

शुक्रवार देर रात चंडीगढ़ पीजीआइ के प्रवक्ता प्रो. अशोक कुमार ने बताया कि

डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की तमाम कोशिशें की वह शुरुआत में रिकवर भी कर रहे थे, लेकिन वीरवार रात को मिल्खा सिंह का आक्सीजन स्तर गिर गया और उन्हें बुखार भी आ गया था। उन्हें सांस लेने में लगातार दिक्कत हो रही थी। मिल्खा सिंह के इलाज में लगी सीनियर डॉक्टरों की टीम के साथ उनकी बेटी मोना भी शामिल थीं। परिवार ने उन्हें वेंटिलेटर लगाने के लिए मनाकर दिया था, परिवार का मानना था कि वह काफी कमजोर हो चुके हैं और इससे उनकी तकलीफ और बढ़ेगी।

बता दें बुधवार को उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगटिव आ गई थी, जिसके बाद उन्हें कोविड अस्पताल के कार्डियक आइसीयू में शिफ्ट कर कर दिया था। वहीं उनका इलाज चल रहा था। वह तेजी से रिकवर कर रहे थे, लेकिन उम्र और शरीरिक कमजोरी की वजह से वह जिंदगी की जंग हार गए। उनके निधन से पूरे खेल जगत में शोक लहर है।

मिल्खा सिंह की 17 मई को कोरोना रिपोर्ट पॉजटिव आई थी

गौरतलब है कि मिल्खा सिंह की 17 मई को कोरोना रिपोर्ट पॉजटिव आई थी। तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां कोरोना की रिपोर्ट नेगटिव आने के बाद 31 मई को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी। इसके बाद वह सेक्टर -8 स्थित अपने घर में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आराम कर रहे थे। तीन जून को अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई और आक्सीजन लेवल गिरने के बाद उन्हें पीजीआइ में भर्ती करवाया गया था। इससे पहले 13 जून को उनकी पत्नी निर्मल मिल्खा सिंह का कोरोना महामारी से निधन हो गया था।

भारत में अक्टूबर तक दस्तक दे सकती है कोरोना की तीसरी लहर

LEAVE A REPLY